‘ताऊ ते’ के बाद आया ‘यास’ तूफान, चक्रवात में बदल सकता है आजे, ओड़िशा समेत कई राज्य अलर्ट

0
23
Yas storm

‘ताऊ ते’ तूफान का जख्म अभी भरा ही नहीं कि समुंदर में ‘यास’ तूफान दस्तक दे रहा है. मौसम विभाग ने ‘यास’ तूफान को लेकर चेतावनी जारी की है. वैज्ञानिक के मुताबिक अंडमान के उत्तरी भाग और पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी में एक और चक्रवाती तूफान बन रहा है. इसमें आज लो प्रेशर और 23 को डिप्रेशन शुरू होगा. यह 24-25 मई को चक्रवाती तूफान बन जाएगा. इसका नाम ‘यास’ है. 26 मई की शाम से ओड़िशा और पश्चिम बंगाल में बारिश शुरू हो जाएगी.

Yas storm

बता दें, ‘ताऊ ते’ तूफान ने मुंबई और गुजरात में भारी तबाही मचाई थी. हालांकि यह कमजोर होकर राजस्थान के रास्ते हिमालय को कूच कर गया था. लेकिन इसके असर से राजस्थान, दिल्ली, यूपी, हरियाणा और उत्तर भारत के कुछ इलाकों में बारिश हुई थी. मध्य प्रदेश में भी बारिश हुई थी. इसके कमजोर पड़ने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली थी, लेकिन अब आज से एक नए तूफान ‘यास’ का खतरा मंडराने लगा है. इसका असर अगले 3-4 दिनों तक बने रहने की आशंका है. इस बीच ओड़िशा के 30 में से 14 जिलों में अलर्ट जारी किया गया है.

केंद्र सरकार ने भी इसके दायरे में आ रहे राज्यों को अलर्ट किया है. ओड़िशा के मुख्य सचिव एससी मोहपात्रा ने कहा कि राज्य सरकार ने भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल को स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने का आग्रह किया है. यास 26 मई को ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों से टकरा सकता है.

Yas storm

उधर, मौसम विभाग यह भी मानता है कि यास का ‘ताऊ ते’ जैसा असर नहीं पड़ेगा. क्योंकि इस समय मानसून की प्रक्रिया होती है और मानसून बड़े इलाके को कवर करता है, जबकि चक्रवात सीमित क्षेत्र में असर करता है. बता दें कि पश्चिमी इलाकों में मानसून की आहट हो चुकी है.

Yas storm

उधर, ‘ताऊ ते’ के असर से समुद्र में डूबे बार्ज-पी-305 मामले में अभी भी सर्चिंग ऑपरेशन जारी है. आईएएस कोच्चि के कमांडिंग ऑफिसर ने बताया-हमने 17 मई की शाम को लोगों को बचाना शुरू किया. उसके अगले दिन तक लगभग 125 लोगों को हमने बचा लिया. आईएनएस कोलकाता, नौसेना के जहाजों और विमानों के संयुक्त प्रयासों से हमने 188 लोगों को बचाया. अभी भी 8-10 यूनिट लोगों की तलाश कर रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here