क्या कहते हैं आईटी के नए नियम; नए नियम होंगे किन लोगों पर लागू?

0
16
Political News

इन दिनों एक मुद्दा गंभीर चर्चाओं का विषय बना हुआ है। सोशल मीडिया जिसके बिना लोगों की जिंदगी बेरंग सी है। सोचिए अगर कुछ चर्चित सोशल साइट बंद हो जाए तो क्या होगा? ऐसा ना हो इसलिए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को नए नियमों पर चर्चा की है। रविशंकर ने साफ कर दिया है कि सोशल मीडिया के लिए बने नए नियम केवल दुष्प्रचार को रोकने के लिए बनाए गए हैं। इससे यूजर्स की निजता को किसी प्रकार का खतरा नहीं है। बता दें कि व्हॉट्सएप ने इन आईटी नियमों को अदालत में चुनौती दी है। इसके बाद केंद्रीय मंत्री ने बयान जारी किया है।

केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों की जिम्मेदारी और जवाबदेही तय करने के लिए नए आईटी नियम जारी किए थे, जो 25 मई से प्रभावी हो गए हैं। इसे लेकर फेसबुक के मालिकाना हक वाले मैसेजिंग एप व्हाट्सएप ने भारत सरकार के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया कि नए नियम असंवैधानिक हैं। ये नियम आईटी नियम निजता के अधिकार का उल्लंघन करते हैं। ऐसे में इन्हें लागू किए जाने से रोका जाना चाहिए।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार निजता के अधिकार को पूरी तरह मानती है और उसका सम्मान करती है। नए आईटी नियम सोशल मीडिया के दुरुपयोग को रोकने के लिए बनाए गए हैं। इनसे व्हाट्सएप या अन्य सोशल मीडिया यूजर्स को डरने की आवश्यकता नहीं है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सवाल पूछने के अधिकार सहित आलोचनाओं का स्वागत करती है। नए आईटी नियम सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं को सशक्त बनाएंगे।

सोशल मीडिया के नए नियम

सोशल मीडिया कंपनियों के लिए साइट पर किए गए हर मैसेज के स्रोत का पता लगाना जरुरी रहेगा।

एजेंसियों की आपत्ति के 36 घंटे के भीतर आपत्तिजनक सामग्री हटानी पड़ेगी

अश्लील पोस्ट और तस्वीरों के खिलाफ शिकायत मिलने पर, 24 घंटे के अंदर हटाना होगा।

किसी की फोटो के साथ अगर छेड़-छेड़ कर के पोस्ट किया तो शिकायत मिलने पर हटाना होगा।

कंपनियों को देश में मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल अधिकारी और शिकायत निवारण अधिकारी नियुक्त करना पड़ेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here