पश्चिम बंगालः भाजपा के ‘नबन्ना चलो’ अभियान से पहले मचा बवाल, सुवेंदु अधिकारी समेत कई भाजपा नेता हिरासत में लिए गए

0
41

पश्चिम बंगाल में भाजपा ‘नबन्ना चलो’ यानी सचिवालय मार्च निकल रही है, लेकिन इस मार्च पर बवाल शुरू हो गया है. मार्च के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच बहस हुई. वहीं भाजपा ने आरोप लगाया है कि राजनीतिक दबाव के कारण बंगाल पुलिस भाजपा कार्यकर्ताओं को कोलकाता नहीं जाने दे रही है. बंगाल के ढोलपुर रेलवे स्टेशन पर भाजपा के कार्यकर्ता और पुलिसकर्मी आपस में भीड़ गए. इसके बाद पुलिस ने कई भाजपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

पुलिस ने भाजपा के ‘नबन्ना चलो’ मार्च से पहले कोलकाता के हेस्टिंग्स से विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी, राहुल सिन्हा और सांसद लॉकेट चटर्जी सहित भाजपा नेताओं को हिरासत में ले लिया. नेताओं को लालबाजार में कोलकाता पुलिस मुख्यालय ले जाया गया है. वहीं भाजपा नेता अभिजीत दत्ता ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे 20 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने दुर्गापुर रेलवे स्टेशन के पास रोक लिया है और मैं खुद दूसरे रास्तों से होकर यहां पहुंचा हूं.

वहीं, भाजपा विधायक और विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा. अधिकारी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘ममता पुलिस ने युद्धस्तर पर तैयारी की है और एक लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रदर्शन को कुचलने की कोशिश कर रही है. संतरागाछी में स्टील की बैरिकेड उनकी चिंता और कायरता का प्रतीक है. यह याद रखें ममता बनर्जी, ‘लोकतंत्र की लहर’ के आगे कोई दीवार खड़ी नहीं हो सकती, यह जल्द से जल्द टूट जाएगी.’

वहीं ‘नबन्ना मार्च’ की मंजूरी ना मिलने पर सोमवार को बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांता मजूमदार ने कहा था, ‘जनता चोरों से प्रदर्शन करने की अनुमति क्यों लेगी? पुलिस टीएमसी कैडरों की तरह व्यवहार कर रही है. हमने पिछली बार नबन्ना मार्च किया था जब धारा 144 लगाई गई थी, हम फिर से करेंगे. बंगाल को बचाने के लिए यह हमारी लड़ाई है.’

भाजपा विधायक अग्निमित्र पॉल ने सोमवार को कहा था कि यह भाजपा का विरोध नहीं है, बल्कि बंगाल के सभी लोगों का विरोध है. ममता बनर्जी को जवाब देना होगा कि उनकी सरकार ने बंगाल के लोगों को धोखा क्यों दिया?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here