आज का इतिहास : इसरो ने 104 सैटेलाइट लॉन्च कर बनाया था रिकॉर्ड

0
111

अगर आपको याद हो आज से चार साल पहले इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) ने आज ही के दिन वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। एक अंतरिक्ष अभियान में 104 सैटेलाइट्स लॉन्च किए थे। यह रिकॉर्ड चार साल तक भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के नाम रहा। दरअसल पिछले महीने ही एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स ने एक ही मिशन में 143 सैटेलाइट्स लॉन्च कर इस रिकॉर्ड को तोड़ा है। ISRO ने 2016 में सिंगल मिशन में 20 सैटेलाइट्स लॉन्च किए थे। इसके बाद 15 फरवरी 2017 को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन लॉन्चिंग सेंटर से PSLV-C37 लॉन्च किया गया, तब उसके साथ 104 सैटेलाइट्स को प्रक्षेपित किया गया था। इससे पहले सिंगल मिशन में सबसे ज्यादा सैटेलाइट लॉन्च करने का रिकॉर्ड रूस के नाम था, जिसने 2014 में 37 सैटेलाइट्स लॉन्च कर यह कीर्तिमान अपने नाम किया था। इसरो के अभियान में भेजे गए 104 उपग्रहों में से तीन भारत के थे। जबकि बाकी के 101 सैटेलाइट्स इजराइल, कजाकिस्तान, नीदरलैंड, स्विट्जरलैंड और अमेरिका के थे। इनमें से एक सैटेलाइट का वजन 730 किग्रा था, जबकि दो का वजन 19-19 किग्रा था। बाकी सैटेलाइट्स हल्के थे। इस मिशन के बाद इसरो, स्पेस लॉन्चिंग के मार्केट में भरोसेमंद प्लेयर बनकर उभरा। इसकी एक बड़ी वजह थी भारत में अमेरिका के मुकाबले सैटेलाइट लॉन्चिंग में आने वाली कम लागत। पिछले महीने अमेरिकी इनोवेटर एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स ने एक ही मिशन में 143 सैटेलाइट लॉन्च कर इसरो का रिकॉर्ड तोड़ दिया। इस मिशन को ट्रांसपोर्टर-1 नाम दिया गया। इसमें 133 कॉमर्शियल और 10 स्टारलिंक सैटेलाइट्स लॉन्च किए गए। ये लॉन्चिंग कंपनी के स्मालसेट राइडशेयर प्रोग्राम का हिस्सा थी। इसके तहत सैटेलाइट कंपनियों को कम कीमत में स्पेस तक पहुंचाया जाता है। इससे पहले स्पेसएक्स ने दिसंबर 2018 में 64 सैटेलाइट्स को एक ही मिशन के तहत लॉन्च किया था। आइए जरा अब एक बार 15 फरवरी को देश-दुनिया में हुई महत्वपूर्ण घटनाओं पर नजर डाल लेते है.

1869: प्रसिद्ध शायर मिर्ज़ा ग़ालिब का निधन।

1948: झांसी की रानी लक्ष्मीबाई पर खूब लड़ी मर्दानी कविता लिखने वाली कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान का निधन।

1967: भारत में चौथी लोकसभा के लिए चुनाव हुए।

1999: परमाणु अस्त्र पर रोक लगाने के मकसद से मिस्र में निगरानी केंद्र की स्थापना करने की घोषणा।

1991: इराक ने कुवैत से हटने की घोषणा की।

1962: अमेरिका ने नेवादा परीक्षण स्थल पर परमाणु परीक्षण किया।

1944: ब्रिटेन के सैकड़ों विमानों ने बर्लिन पर बमबारी की।

1942: द्वितीय विश्व युद्ध में सिंगापुर का पतन हुआ। जापानी सेनाओं के हमले पर ब्रिटिश जनरल आर्थर पेरसिवल ने समर्पण कर दिया। लगभग 80,000 भारतीय, ब्रिटिश और ऑस्ट्रेलियाई सैनिक युद्ध-बंदी थे।

1906: ब्रिटेन की लेबर पार्टी का गठन।

1798: फ्रांस ने रोम पर कब्जा कर उसे गणराज्य घोषित किया।

1564: खगोलशास्त्री गैलीलियो का जन्म। उन्होंने ही बताया कि पृथ्वी सूर्य के चक्कर लगाती है। सूर्य पृथ्वी के चक्कर नहीं लगाता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here