कहानी एक मुस्लिम देश की जिसने अपने यहां लगाई है भगवान विष्णु की दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति, जानिए क्यों?

0
43
the world's largest statue of Lord Vishnu

धरती के पालनहारा भगवान विष्णु को हिंदू धर्म में माना जाता है। समृद्धि और वैभव के प्रतीक भगवान विष्णु इस धरती के रचनाकार हैं। भारत के ज्यादातर जगहों पर उनके मंदिर हैं जहां पर भक्त उनको पूरी आस्था के साथ पूजते हैं यहां तक की विष्णु भगवान की कई जगहों पर अलग-अलग नामों से पूजा होती है। लेकिन जो खबर हम आपको बताने वाले हैं उसे जानकार आपको हैरानी हो सकती है। क्या आपको पता है विष्णु भगवान की सबसे ऊंची मूर्ती किस देश में है? कई लोगों को तो ये पता है कि भारत में है पर कहां है ये नहीं पता।

the world's largest statue of Lord Vishnu

दुनिया की सबसे ऊंची भगवान विष्णु की मूर्ति भारत में नहीं है। यह एक मुस्लिम देश में है। आपको ये बात थोड़ी अजीब जरूर लग रही होगी कि कोई मुस्लिम देश अपने यहां भगवान विष्णु की दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बनवा सकता है। लेकिन ऐसा सच में हुआ है और इस देश का नाम है इंडोनेशिया। यह मूर्ति इतनी विशाल और इतनी ऊंचाई पर है कि आप देखकर ही हैरान हो जाएंगे। इसके अलावा एक और खास बात है कि इस मूर्ति को बनवाने के लिए अरबों रुपये खर्च हुए थे। भगवान विष्णु के इस मूर्ति का निर्माण तांबे और पीतल का इस्तेमाल किया गया है।

भगवान विष्णु की यह मूर्ति करीब 122 फुट ऊंची और 64 फुट चौड़ी है। इस मूर्ति को बनाने में 2-4 साल नहीं, बल्कि करीब 24 साल का समय लगा है। साल 2018 में यह मूर्ति पूरी तरह बनकर तैयार हुई थी। अब इसे देखने और भगवान के दर्शन के लिए दुनियाभर से लोग आते हैं।

the world's largest statue of Lord Vishnu

इस मूर्ति के बनने की कहानी भी बड़ी ही दिलचस्प है। कहते हैं कि साल 1979 में इंडोनेशिया में रहने वाले मूर्तिकार बप्पा न्यूमन नुआर्ता ने एक विशालकाय मूर्ति बनाने का सपना देखा था। वो ऐसी मूर्ती बनवाना चाहते थे जिसे कोई नहीं बनवा पाया और एक ऐसी मूर्ति जो मनमोहक हो।

लंबी प्लानिंग और पैसे के इंतजाम के बाद इस मूर्ति को बनाने की शुरुआत साल 1994 में शुरू हो पाई।हालांकि, बजट की कमी से 2007 से 2013 तक मूर्ति बनाने का काम रूका रहा था, लेकिन उसके बाद जब इसका काम दोबारा शुरू हुआ तो फिर वो पूरा बनने के बाद ही रूका।

बाली द्वीप के उंगासन में स्थित इस विशालकाय मूर्ति का निर्माण करने वाले मूर्तिकार बप्पा न्यूमन नुआर्ता को भारत में सम्मानित भी किया गया था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें पद्मश्री पुरस्कार प्रदान किया था। आज इस मूर्ति की ख्याति दुनियाभर में फैल चुकी है। बड़ी संख्या में यहां हिंदू श्रद्धालु भगवान विष्णु की दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति देखने के लिए पहुंचते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here