देश में हुई कोरोना के नए वैरिएंट की एंट्री, जानिए कितने खतरनाक है इसके लक्षण

0
24

देश में कोरोना के खिलाफ तेजी से टीकाकरण अभियान चल रहा है इसी बीच वायरस के नए-नए वैरिएंट का मिलना लगातार जारी है। पुणे की नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने वायरस की जिनोम सीक्वेंसिंग के जरिये कोरोना के एक नए वैरिएंट का पता लगाया है जिसे B.1.1.28.2 नाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि ये नया वैरिएंट ब्रिटेन और ब्राजील से भारत आए लोगों में पाया गया है। ये नया वैरिएंट कोरोना के डेल्टा वैरिएंट की तरह ही खतरनाक माना जा रहा है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक का कहना है कि डेल्टा वैरिएंट कोरोना के अल्फा वैरिएंट से 40 फीसदी ज्यादा संक्रामक है। और डराने वाली बात ये है कि जिन लोगों को वैक्सीन की दोनों खुराक दी जा चुकी है वो भी डेल्टा वैरिएंट की चपेट में आ सकते हैं।

नए वैरिएंट को लेकर एनआईवी की स्टडी में पाया गया है कि ये वैरिएंट लोगों को गंभीर रूप से बीमार कर सकता है। इससे संक्रमित मरीजों में कोरोना के गंभीर लक्षण दिख सकते हैं। इसकी प्रमुख लक्षण है वजन कम होना, श्वास की नली और फेफडे में घाव हो जाना। हालांकि स्वदेशी कोरोना वैक्सीन कोवाक्सिन इस वैरिएंट पर भी असरदार है। वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद शरीर में जो एंटीबॉडीज बनती हैं उससे इस वैरिएंट को निष्क्रिय किया जा सकता है।

बता दें कि चाहे कोरोना का कोई भी वैरिएंट हो और कितना भी खतरनाक क्यों न हो, उससे बचने का केवल एक ही तरीका है और वो है कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर का पालन। जैसे मास्क लगाकर रहें, बेवजह घर से बाहर न जाएं, हाथ साबुन-पानी से धोते रहें या सैनिटाइज करें और लोगों से सुरक्षित शारीरिक दूरी बनाकर रहें। ये सावधानियां अपनाकर आप खुद को कोरोना के संक्रमण से बचा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here