सुबह की खास खबरें @22.05.2021

0
16
Morning news

‘ताऊ ते’ गया नहीं ‘यास’ तूफान आ गया!

‘ताऊ ते’ चक्रवात के तूफान के बाद एक दूसरे चक्रवात की चेतावनी दी गई है. भारत के पूर्वी तट से सटे बंगाल की खाड़ी में ‘यास’ नाम के तूफान की का अलर्ट जारी किया गया है. अंडमान-निकोबार से लेकर ओड़िशा, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल को अलर्ट किया गया है और 22 से 26 मई के बीच समुद्र में ना जाने की सलाह दी गई है. विशेषज्ञों की मानें तो 22 मई से उत्तरी अंडमान निकोबार से सटे समंदर में लो-प्रेशर बनना शुरू होगा, जो 24 मई तक ओड़िशा से सटे समंदर में एक बड़े तूफान का रूप ले सकता है. ये तूफान पूरे वेग से 26 मई को ओड़िशा और पश्चिम बंगाल के तट से टकरा सकता है.

ट्विटर एक्शन पर सख्त हुई सरकार

‘टूलकिट’ मामले पर केंद्र सरकार ने ट्विटर को सख्त हिदायत दी है. सरकार ने शुक्रवार को ट्विटर से कहा, ‘ट्विटर मैनिपुलेटेड मीडिया टैग का इस्तेमाल बंद करें, क्योंकि अभी टूलकिट मामले की जांच एजेंसी कर रही है., केंद्र ने कहा, आप जांच पूरी होने तक इस प्रक्रिया में दखल ना दें.’ यह मामला जांच के दायरे में है, तब तक ट्विटर फैसला नहीं सुना सकती है. दरअसल, ट्विटर ने बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा के कुछ ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग लगाकर दिखाया था. ये ट्वीट कांग्रेस की टूल किट को लेकर किए गए थे.

भवानीपुर से टीएमसी विधायक का इस्तीफा, ममता चुनाव लड़ेंगीं

बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट से चुनाव हारने वाली ममता बनर्जी के लिए सीट खाली हो गई है. भवानीपुर सीट से चुनाव जीतने वाले तृणमूल विधायक शोभन देव चटर्जी ने इस्तीफा दे दिया है. अब ममता यहां से चुनाव लड़ेंगी. ममता की यह पारंपरिक सीट रही है. नंदीग्राम में ममता बनर्जी तृणमूल छोड़कर भाजपा में गए शुभेंदु अधिकारी से हारी थीं. इस स्थिति में उन्हें सीएम की कुर्सी पर बने रहने के लिए 6 महीने के भीतर किसी सीट से विधायक का चुनाव जीतना होगा.

हाईकोर्ट के युद्ध स्तर वाले स्वास्थ्य सेवाओं पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस आदेश पर रोक लगा दी, जिसमें उसने युद्ध स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने को कहा था. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 17 मई को कहा था कि एक महीने के भीतर राज्य के हर गांव में आईसीयू सुविधा के साथ 2 एंबुलेंस दी जाएं. इस पर यूपी सरकार ने दलील दी कि प्रदेश में करीब 97 हजार गांव हैं. एक महीने के भीतर इस आदेश को लागू करना मुश्किल है. तब सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्टों को ऐसे आदेश देने से बचना चाहिए, जिन्हें पूरा करना असंभव हो.

एसबीआई की डिजिटल सेवा रहेगी बंद

देश की सबसे बड़ी सरकारी बैंक एसबीआई ने अपने ग्राहकों के लिए अलर्ट जारी किया है. एसबीआई ने ट्वीट कर यह जानकारी दी कि 21 मई की रात 10:45 बजे से 22 मई की रात 1.15 बजे तक और फिर 23 मई 2021 को रात 02.40 बजे से लेकर सुबह 06.10 बजे तक डिजिटल सेवा बाधित रहेगी. इस दौरान ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग और यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) जैसी सुविधा का लाभ नहीं उठा पाएंगे. बता दें, पिछले महीने भी रखरखाव से जुड़े कार्यों की वजह से एसबीआई का योनो, योनो लाइट, इंटरनेट बैंकिंग, यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) समेत डिजिटल बैंकिंग मंच प्रभावित हुआ था.

अहमदाबाद में ब्लैक फंगस से पीड़ित बच्चे की सर्जरी

अहमदाबाद राज्य में तेजी से फैल रहा ब्लैक फंगस बड़ों के बाद अब बच्चों को भी चपेट में लेने लगा है. गुजरात के अहमदाबाद में देश का ऐसा पहला मामला सामने आया है. चांदखेड़ा इलाके में एक प्राइवेट हॉस्पिटल में बच्चे की शुक्रवार को सर्जरी की गई. अब वह खतरे से बाहर है. पिछले साल बच्चे की मां की मौत कोरोना से हो चुकी है. 13 साल का यह बच्चा पिछले महीने कोरोना से संक्रमित होकर ठीक भी हो गया था, लेकिन ब्लैक फंगस की चपेट में आ गया. गुजरात में ब्लैक फंगस के 1,163 मामलों का पता चला है. 61 लोगों की मौत हो चुकी है.

कोरोना की चपेट में बच्चे, बाल आयोग की केंद्र को चेतावनी

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने केंद्र को चेतावनी दी है. एनसीपीसीआर ने कहा कि तीसरी लहर का बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ने की आशंका जाहिर की जा रही है. ऐसे में सरकार को बच्चों के लिए स्वास्थ्य इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाना चाहिए ताकि केसेज और मौतों पर नियंत्रण पाया जा सके. इस बीच कर्नाटक से खबर है कि वहां 2 महीनों के भीतर 9 साल से छोटे 40 हजार बच्चे संक्रमित हो गए हैं. 18 मार्च से 18 मई के बीच 10 से 19 साल के बीच के एक लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए.

बिहार के सेनारी नरसंहार में सभी 13 आरोपी बरी

बिहार के जहानाबाद जिले के चर्चित सेनारी नरसंहार मामले में पटना हाईकोर्ट ने निचली अदालत का फैसला पलट दिया है. कोर्ट ने 18 मार्च 1999 में 34 लोगों की हत्या के आरोपी सभी 13 लोगों को बरी कर दिया है. जस्टिस अश्वनी कुमार सिंह और जस्टिस अरविंद श्रीवास्तव की खंडपीठ ने लंबी सुनवाई के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. कोर्ट ने शुक्रवार को अपना फैसला सुनाते हुए 5 साल पहले निचली अदालत के फैसले को रद्द करते हुए सभी 13 आरोपियों को तुरंत रिहा करने का आदेश दे दिया.

लाल किला हिंसा केस में 16 के खिलाफ चार्जशीट

गणतंत्र दिवस पर लाल किले में तोड़फोड़ और हिंसा के मामले में पुलिस ने शुक्रवार को चार्जशीट दाखिल की है. इसमें पंजाबी एक्टर दीप सिद्धु और इकबाल सिंह समेत 16 लोगों के नाम हैं. ये प्रदर्शनकारी 26 जनवरी को कृषि कानूनों के विरोध में निकाली गई किसानों की रैली में शामिल थे. इकबाल पर हिंसा के दौरान सोशल मीडिया के जरिए प्रदर्शनकारियों को उकसाने का आरोप है. चार्जशीट में पुलिस ने कहा है कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने तय रास्तों के समझौते को तोड़ने की पहले से योजना बना ली थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here