सेक्स सीडी कांड: कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली का इस्तीफा, नौकरी के बहाने महिला पर यौन शोषण का आरोप

0
10
Karnataka minister Ramesh Jarkiholi resigns after sex CD scandal

कर्नाटक में सेक्स सीडी कांड मामले को लेकर घमासान मचा हुआ है. इस सीडी के जरिए जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए जा रहे हैं जिसके बाद अब रमेश जारकीहोली ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उनका इस्तीफा मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने स्वीकार कर लिया है और राज्यपाल के पास भेज दिया है.

रमेश जारकीहोली पर आरोप है कि उन्होंने नौकरी दिलाने के बहाने महिला का यौन उत्पीड़न किया और फिर अपने वादे से मुकर गए. इस मामले को लेकर उनके खिलाफ शिकायत भी दर्ज करा दी गई है. सामाजिक कार्यकर्ता और नागरिक हक्कू होरता समिति के अध्यक्ष दिनेश कल्लाहल्ली ने इस मामले से जुड़ा टेप मीडिया में जारी कर दिया था. रमेश जारकीहोली ने अपने इस्तीफे में लिखा, “मुझ पर लगे आरोप झूठे हैं लेकिन फिर भी निष्पक्ष जांच के लिए मैं नैतिक आधार पर इस्तीफा दे रहा हूं.”

बताया जा रहा है कि पहले सरकारी नौकरी देने के बहाने मंत्री ने पीड़िता का यौन उत्पीड़न किया और फिर अपने वादे से मुकर गए. मंत्री ने पीड़िता को कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन में नौकरी दिलाने का वादा किया था. दिनेश कल्लाहल्ली ने बताया कि पीड़िता के परिवार ने उनसे मदद के लिए संपर्क किया था. वह अकेले ये लड़ाई नहीं लड़ सकते थे. उन्होंने कहा, मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता हूं, इसलिए उन्होंने मुझसे मदद मांगी.


रमेश जारकीहोली के भाई ने की सीबीआई जांच की मांग

वहीं दूसरी ओर बीजेपी विधायक बालचंद्र जारकीहोली ने अपने भाई रमेश जारकीहोली के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों की सीबीआई जांच कराए जाने की बुधवार को मांग की और ‘फर्जी सीडी’ जारी करने वाले के खिलाफ 100 करोड़ रुपए का मानहानि का मुकदमा दायर करने की धमकी भी दी.

बालचंद्र ने मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा से मुलाकात के बाद कहा कि यदि रमेश जारकीहोली ने कुछ गलत नहीं किया है, तो उन्हें इस्तीफा नहीं देना चाहिए और आपत्तिजनक वीडियो वाली सीडी जारी करने के पीछे जो लोग हैं, उनका पता लगाने के लिए जांच की जानी चाहिए.

बालचंद्र ने कहा, ‘‘जिस महिला के साथ अन्याय होने का दावा किया जा रहा है, उसकी पहचान नहीं पता है। किसी ने यह दावा करते हुए शिकायत की कि महिला के रिश्तेदारों ने ऐसा करने को कहा. इस शिकायत को दर्ज करना ही गलत है, क्योंकि पीड़ित व्यक्ति को शिकायत करनी चाहिए, न कि सड़क पर चल रहे किसी भी व्यक्ति को ऐसा करना चाहिए.’’

उन्होंने येदियुरप्पा से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री से सीबीआई या सीआईडी की जांच के आदेश देने का अनुरोध किया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि इस सीडी को जारी किसने किया है और कौन प्रभावशाली नेता उनके पीछे हैं.

कर्नाटक सरकार को उठानी पड़ रही शर्मिंदगी

गुरुवार से शुरू हो रहे राज्य के बजट सत्र से पहले इस प्रकार के आरोप लगने के कारण बी एस येदियुरप्पा नीत भाजपा सरकार को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है. पहले कांग्रेस में शामिल रहे रमेश कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन सरकार को गिराने में अहम भूमिका निभाने वाले विधायकों में शामिल थे, जिसके बाद भाजपा राज्य में सत्ता में आई.

ये भी पढ़ें-जानें आंखों से आंसू आने की वजह, कितने प्रकार के होते हैं आंसू

DOWNLOAD – Local Vocal Hindi News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here