कोरोना दौर में तीसरे शाही स्नान, प्रोटोकॉल भूल कर साधु-संतों ने लगाई आस्था की डुबकी

0
29
Mahakumbh

धर्मनगरी हरिद्वार में आस्था का महाकुंभ चल रहा है. कोरोना दौर में साधु-संतों ने मंगलवार को बैसाखी मेष संक्रांति के पावन अवसर तीसरे शाही स्नान का सिलसिला शुरू हो गया है. बैसाखी पर 13 अखाड़ों के साधु संत शाही स्नान में हिस्सा लेंगे. सबसे पहले निरंजनी अखाड़े के साधुओं ने हर की पौड़ी पर गंगा नदी में डुबकी लगाई. तीसरे शाही स्‍नान से पहले सुबह हरकी पैड़ी पर भव्‍य गंगा आरती की गई, जिसमें हजारों श्रद्धालुओं ने हिस्‍सा लिया और बैसाखी के पावन अवसर पर मां गंगा के दर्शन किए.

Mahakumbh

कुंभ मेला प्रशासन के मुताबिक, बुधवार को बैसाखी पर कुंभ का तीसरा शाही स्‍नान सुबह 10.15 से शुरू होकर शाम 5.30 बजे तक चलेगा. तीसरे शाही स्नान के लिए हरिद्वार मेला प्रशासन ने साधु संतों के लिए मेला प्रशासन ने नई गाइडलाइंस भी जारी की हैं. इसके तहत सुबह सात बजे के बाद हरकी पैड़ी अखाड़ों के लिए आरक्षित हो जाएगी. ऐसे में सुबह सात बजे तक ही स्नान हरकी पैड़ी पर श्रद्धालु कर पाएंगे.

Mahakumbh

मिली जानकारी के अनुसार शंकराचार्य चौक से चंडी घाट चौराहा और हरकी पैड़ी घाट पर आम गाड़ियों की आवाजाही पूरी तरह से बंद रहेगी. वहीं साधु संतों के शाही स्नान करने तक हरकी पैड़ी पर बना ब्रह्मकुंड आम लोगों के लिए बंद रहेगा. इस दौरान आम श्रद्धालु आस पास के घाटों पर स्नान कर सकते हैं.

Mahakumbh

डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि 14 अप्रैल महाकुंभ 2021 का सबसे बड़ा दिन है. इसके लिए पुलिस की तैयारियां पूरी हैं. स्नान के दौरान स्थानीय निवासियों व श्रद्धालुओं को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी. उन्‍होंने बताया कि आम श्रद्धालुओं के लिए हिल बाईपास शुरू किया गया है. जो 30 अप्रैल तक लगातार खुला रहेगा. कोविड 19 के कारण एक माह की अवधि के लिए सीमित कर दिए गए महाकुंभ का यह तीसरा शाही स्नान है. इससे पहले एक मार्च को महाशिवरात्रि के मौके पर महाकुंभ का पहला शाही स्नान पडा था. इसके बाद 12 अप्रैल को सोमवती अमावस्या पर दूसरा शाही स्‍नान था.

वहीं, हरिद्वार कुंभ के मेलाधिकारी दीपक रावत के मुताबिक, कुंभ के तीसरे शाही स्नान की प्रशासन नू पूरी तैयारियां कर ली हैं. कोविड एसओपी का सख्ती से पालन कराया जाएगा. बॉर्डर पर बिना RT-PCR की नेगेटिव रिपोर्ट के प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here