फोर्ब्स की ‘ग्लोबल 2000’ की लिस्ट में भारतीय कंपनियों में टॉप पर रिलायंस

0
43

उद्योपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस भारत की नंबर-वन कंपनी बन गई है. दरअसल, अमेरिकी मैगजीन फोर्ब्स की ओर से जारी दुनिया भर की कंपनियों की लिस्ट में फोर्ब्स ‘ग्लोबल 2000’ में रिलायंस को 53वें नंबर पर जगह मिली है, जो भारत की दूसरी और कंपनियों के मुकाबले सबसे ज्यादा है. लिहाजा, मुकेश अंबानी की रिलायंस भारत की नंबर वन कंपनी बन गई है.

बता दें, फोर्ब्स ने 2022 के लिए शीर्ष 2,000 कंपनियों की रैंकिंग जारी करते हुए बताया कि इस सूची में दुनिया भर की सबसे बड़ी कंपनियां स्थान पाती हैं जिसके लिए उन्हें बिक्री, लाभ, परिसंपत्ति और बाजार मूल्यांकन जैसे मानकों पर परखा जाता है.

इस सूची में रिलायंस ने भारतीय कंपनियों में शीर्ष स्थान पाया है. इसके बाद 105वें स्थान पर भारतीय स्टेट बैंक, 153वें स्थान पर HDFC बैंक और 204वें स्थान पर ICICI बैंक है.

इस सूची में शामिल अन्य प्रमुख भारतीय कंपनियों में सार्वजनिक क्षेत्र की ONGC (228वीं रैंक), HDFC लिमिटेड (268वीं रैंक), इंडियन ऑयल (357वीं रैंक), टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस लिमिटेड (384वीं रैंक), टाटा स्टील (407वीं रैंक) और एक्सिस बैंक (431वीं रैंक) शामिल हैं.

फोर्ब्स ने कहा, ‘इस साल सूचीबद्ध कंपनियों की ‘ग्लोबल 2000’ सूची में ऊर्जा और बैंकिंग क्षेत्र की कंपनियां सर्वोच्च रैंक पाने वाली भारतीय कंपनियों में शामिल हैं.’

रिलायंस की अप्रैल 2021 से मार्च 2022 के बीच बिक्री 104.6 अरब डॉलर रही और यह ऐसी पहली भारतीय कंपनी बन गई है जिसका सालाना राजस्व 100 अरब डॉलर से अधिक है.

फोर्ब्स ने कहा, ‘ग्लोबल 2000 में दुनियाभर की सभी सूचीबद्ध कंपनियों में से रिलायंस दो पायदान चढ़कर 53वें स्थान पर आ गई. भारतीय कंपनियों में यह पहले स्थान पर है. इस साल की शुरुआत में फोर्ब्स ने अंबानी की कुल संपत्ति 90.7 अरब डॉलर रहने का अनुमान लगाया था जिसके साथ वह इस साल के अरबपतियों की सूची में दसवें स्थान पर हैं.’

SBI 56.12 अरब डॉलर के बाजार पूंजीकरण के साथ भारत की बड़ी कंपनियों के मामले में दूसरे स्थान पर है. उसके बाद निजी क्षेत्र के बैंक ICICI और HDFC हैं.

इस सूची में जुड़ने वाली नई कंपनियों में गौतम अडाणी की अडाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड, अडाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड और अडाणी टोटल गैस लिमिटेड शामिल हैं.

फोर्ब्स ने कहा, ‘अडाणी तब सुर्खियों में आए थे जब वह इतिहास के सबसे अमीर एशियाई अरबपति बने, उन्होंने साल की शुरुआत में वॉरेन बफे को पीछे छोड़ दिया और दुनिया के पांचवे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए.’

इस सूची में अडाणी एंटरप्राइजेज 1,453वें स्थान पर, अडाणी पोर्ट्स ऐंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन 1,568वें पर, अडाणी ग्रीन एनर्जी 1,570वें पर, अडाणी ट्रांसमिशन 1,705वें स्थान पर और अडाणी टोटल गैस 1,746वें स्थान पर है.

वेदांता लिमिटेड ने सूची में उल्लेखनीय बढ़त पाई है, वह 703 स्थान की छलांग लगाकर 593वें नंबर काबिज हो गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here