कोविड पोर्टल पर आज शाम 4 बजे से शुरू होगा ’18 प्लस’ उम्र के लोगों का पंजीकरण

0
34
Registration for covid vaccination

हिंदुस्तान में बढ़ते कोरोना महामारी को रोकने का एक मात्र रास्ता वैक्सीनेशन और सरकार लगातार वैक्सीनेशन प्रोग्राम पर जोर दे रही है। 1 मई से 18 साल से ऊपर सभी लोगों का वैक्सीनेशन शुरू हो जाएगा। इसके लिए 28 अप्रैल (बुधवार) यानी आज से रजिस्ट्रेशन शुरू होना है. हालांकि सरकार ने रजिस्ट्रेशन के लिए तारीख का ऐलान तो किया, मगर किस समय रजिस्ट्रेशन करना है इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई थी. ऐसे में लोगों ने 27 अप्रैल की रात 12 बजे के बाद से ही कोविन पोर्टल, आरोग्य सेतु या उमंग ऐप पर रजिस्ट्रेशन करने का प्रयास शुरू कर दिया।

Registration for covid vaccination

लिहाजा प्रोसेस शुरू ना होने की स्थिति में लोग सोशल मीडिया पर शिकायत करते भी नजर आए। इसके बाद आरोग्य सेतु ऐप के जरिए सरकार ने मौजूदा हालात की स्थिति स्पष्ट की।

इसके मुताबिक, 18 ‘प्लस’ उम्र के वो लोग जो वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, उनके लिए बुधवार को शाम 4 बजे से रजिस्ट्रेशन शुरू होगा। ऐसे लोगों को अपॉइंटमेंट भी प्राइवेट और राज्य सरकार के सेंटर्स की उपलब्धता के आधार पर ही मिलेगा यानी राज्यों में एक मई को वैक्सीनेशन के लिए तैयार सेंटर्स के आधार पर ही लोगों को अपॉइंटमेंट दिया जाएगा।

Registration for covid vaccination

देरी से समय का ऐलान करने से नाराज लोग

आरोग्य सेतु के ट्विटर हैंडल के जरिए सुबह 7.50 बजे शाम 4 बजे से रजिस्ट्रेशन शुरू होने का ऐलान किया गया। इसलिए काफी पहले से ही रजिस्ट्रेशन करने की कोशिश कर रहे लोगों ने सोशल मीडिया पर काफी नाराजगी जताई। उनका कहना था कि सरकार को समय का ऐलान पहले ही करना चाहिए था। लोग 27 अप्रैल रात 12 बजे ही से रजिस्ट्रेशन ट्राई कर रहे थे।

Registration for covid vaccination

आखिर 18 ‘प्लस’ को वैक्सीनेट पर क्यों हो रही सियासत?

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हाईलेवल की बैठक में देश की 18 ‘प्लस’ आबादी को वैक्सीनेट करने का फैसला लिया गया। हालांकि यब बहुत पेचीदा है। पॉलिसी के तहत कसौली की सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी से मंजूरी मिलने के बाद 50 प्रतिशत डोज केंद्र के पास जाएंगे और बचे हुए डोज राज्यों और प्राइवेट अस्पतालों में बंट जाएंगे।

केंद्र सरकार ने कोवीशील्ड के लिए सीरम इंस्टीट्यूट और कोवैक्सिन के लिए भारत बायोटेक से 150 रुपए प्रति डोज की कीमत चुकाने की डील की है। वहीं राज्यों के लिए कोवीशील्ड का एक डोज 400 रुपए का और कोवैक्सिन का एक डोज 600 रुपए का पड़ेगा। यह कीमत कंपनियों द्वारा तय किया गया है।

अब इसे लेकर कई सवाल है, जिनके जवाब फिलहाल किसी के पास नहीं है। मसलन, केंद्र और राज्यों की सरकारों के लिए अलग-अलग कीमत क्यों? केंद्र खुद खरीदकर राज्यों को वैक्सीन डोज उपलब्ध क्यों नहीं करा रहा? राज्यों और प्राइवेट अस्पतालों को मिलने वाले वैक्सीन डोज का बंटवारा कैसे होगा?

इस पर सियासत भी गरमा गई है। राजस्थान, झारखंड, पंजाब और छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्रियों ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि केंद्र उनके साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है। सीरम इंस्टीट्यूट से जब उन्होंने डोज मांगे तो जवाब मिला कि 15 मई से पहले यह संभव नहीं होगा। अब यह राज्य कह रहे हैं कि बजट में था नहीं फिर भी पैसे तो जैसे-तैसे जुटा लेंगे पर वैक्सीन डोज मिले ही नहीं तो 18 ‘प्लस’ को वैक्सीनेट करेंगे कैसे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here