रविशंकर ने केजरीवाल पर दागा सवाल- दिल्ली में ‘वन नेशन, वन राशन’ कार्ड क्यों लागू नहीं, आखिर क्या है परेशानी?

0
7
Ravi Shankar

केंद्र और केजरीवाल सरकार के बीच चल रही तकरार के बीच अब एक मुद्दा और जुड़ गया है. दरअसल, केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने केजरीवाल सरकार से सवाल पूछा है कि दिल्ली में अभी तक ‘वन नेशन, वन राशन’ कार्ड क्यों लागू नहीं किया गया, साथ ही केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार राशन माफियाओं के नियंत्रण में है.

Ravi Shankar

रविशंकर का केजरीवाल से सवाल

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘अरविंद केजरीवाल हर घर अन्न की बात कर रहे हैं. ऑक्सीजन पहुंचा नहीं सके, मोहल्ला क्लीनिक दवा तो पहुंचा नहीं सके. दिल्ली सरकार राशन माफिया के नियंत्रण में है. देश के 34 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने ‘वन नेशन, वन राशन’ कार्ड लागू किया. सिर्फ तीन प्रदेशों असम, पश्चिम बंगाल और दिल्ली ने इसे लागू नहीं किया. अरविंद केजरीवाल आपने दिल्ली में ‘वन नेशन, वन राशन’ कार्ड लागू क्यों नहीं किया, आपको क्या परेशानी है? देश में अगर 34 राज्य वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को लागू करने के लिए तैयार हैं तो दिल्ली के मुख्यमंत्री को क्या समस्या है. दिल्ली के लोकप्रिय मुख्यमंत्री अगर घर-घर पहुंचने की बात करते हैं तो इस योजना से क्या दिक्कत है.’

Ravi Shankar

केजरीवाल की घर-घर राशन पर रविशंकर का तंज

दिल्ली सरकार की घर-घर राशन डिलीवरी योजना पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘ये होम डिलीवरी देखने में बहुत अच्छी लगती है लेकिन इसके थोड़ा अंदर जाओ, तो इसमें स्कैम के कितने गोते लगेंगे, ये समझ में आ जाएगा. अरविंद केजरीवाल ‘आप’ अपना प्रस्ताव भेजें या भारत सरकार से जो अनाज जाता है उसी पर खेल खेलेंगे,’ उन्होंने बताया, केंद्र सरकार देशभर में 2 रुपए किलो गेंहू और 3 रुपए किलो चावल की व्यवस्था कराती है. प्रधानमंत्री ग्रामीण योजना के तहत पिछले साल नवंबर तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया गया था. इस साल भी नवंबर तक मुफ्त दिया जाएगा. इस व्यवस्था पर सालाना दो लाख करोड़ रुपए खर्च किया जा रहा है.

Ravi Shankar

रविशंकर के सवाल का केजरीवाल ने दिया जवाब

जवाब में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘आज लोग केंद्र में ऐसा नेतृत्व देखना चाहते हैं जो, पूरा दिन राज्य सरकारों को गाली देने और उनसे लड़ने की बजाए, सबको साथ लेकर चले. देश तब आगे बढ़ेगा जब 130 करोड़ लोग, सभी राज्य सरकारें और केंद्र मिलकर टीम इंडिया बनकर काम करेंगे. इतना गाली गलौज अच्छा नहीं.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here