राजस्थानः वर्जिनिटी टेस्ट में फेल हुई दुल्हन, तो खाप पंचायत ने लगाया 10 लाख का जुर्माना! वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

0
59

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के बागोर थाना इलाके से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान है. यहां शादी के बाद एक दुल्हन वर्जिनिटी टेस्ट में पास नहीं हुई तो उसके ससुराल वालों ने उसे घर से निकाल दिया. इतना ही नहीं, गांव की खाप पंचायत बुलाकर लड़की के परिजनों पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगा दिया. अब इतनी भारी भरम रकम लड़की के परिजन नहीं जुटा पाए, तो लड़की के घरवालों को परेशान भी किया जा रहा है.

दरअसल, भीलवाड़ा जिले की रहने वाली एक 24 साल की युवती का शादी 11 मई 2022 को बागौर में हुई थी. शादी के बाद लड़की का वर्जिनिटी टेस्ट किया गया, क्योंकि यहां पर कुकड़ी प्रथा प्रचलित है और इस प्रथा के अनुसार लड़की की शादी के बाद उसका वर्जिनिटी टेस्ट किया जाता है, अगर लड़की इस टेस्ट में फेल हो जाती है, तो उसके घरवालों पर जुर्माना लगाया जाता है. लिहाजा, लड़की इस टेस्ट में फेल हो गई. इस संबंध में जब ससुराल वालों ने लड़की के घर पर बात की तो उन्होंने बताया कि शादी से पहले पड़ोस के एक लड़के ने उसका रेप किया था. इसका मामला भी पुलिस थाने में दर्ज कराया गया था, उनके जवाब से ससुराल पक्ष संतुष्ट नहीं हुआ और बागोर के भादू माता मंदिर में खाप पंचायत बुला ली.

पंचायत में लड़की के घर वालों ने 18 मई को भीलवाड़ा के सुभाषनगर थाने में उसके साथ हुए दुष्कर्म की रिपोर्ट की बात भी बताई. उस समय तो पंचायत में कोई फैसला नहीं सुनाया गया. 31 मई को दोबारा बैठी पंचायत ने लड़की के घर वालों पर अनुष्ठान और शुद्धिकरण के नाम पर 10 लाख रुपए का जुर्माना लगा दिया. इसके बाद लड़की के घर वालों ने पंचायत के फैसले के खिलाफ पुलिस में शिकायत की, जिसके बाद पुलिस ने लड़की के ससुर और पति के खिलाफ शनिवार रात मामला दर्ज कर लिया.

बता दें, राजस्थान के आज भी कुछ समाज में व्याप्त कुकड़ी प्रथा चल रही है. इस प्रथा के अंतर्गत वर्जिनिटी टेस्ट के लिए शादी के बाद सुहागरात के समय दूल्हा-दुल्हन के मिलन के वक्त घर वाले बेड पर सफेद चादर बिछाने के साथ कच्चे सूत की एक गेंद (कुकड़ी) रख देते हैं. इस कुकड़ी और सफेद चादर पर खून के धब्बे मिलने पर दुल्हन वर्जिनिटी टेस्ट में पास होती है, जिसे परिवार के सदस्य देखते हैं. अगर, ऐसा नहीं होता है तो दूल्हा, दुल्हन पर चरित्रहीन होने का आरोप लगा देता है और फिर उसे पीटकर उससे उसके पहले के संबंध के बारे में जानकारी लेकर उससे जुर्माना वसूला जाता है. अभी भी यह प्रथा कालांतर में सामाजिक अपराधों में लिप्त रहे समाजों में व्याप्त है.

बता दें, राजस्थान में कुकड़ी प्रथा के चलते कई बेटियों की जिंदगी खराब हुई है. कई जगह इस कुप्रथा की प्रताड़ना के चलते आत्महत्या के मामले भी सामने आए हैं. इस पहले इस युवती के ससुराल पक्ष में भी इस कुप्रथा से प्रताड़ित होकर एक बेटी ने आत्महत्या कर ली थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here