कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच पीएम मोदी बोले- हमें अर्लट रहने की जरूरत है

0
57

कोरोना की चौथी लहर की आशंका के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अहम बैठक की. दरअसल, दिल्ली, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र और तमिलनाडु राज्य में बीते कुछ दिनों से कोरोना के मामले तेजी से बढ़े है. इसी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की. इस बैठक के दौरान पीएम मोदी ने कहा कुछ राज्यों में पिछले दो हफ्तों से कोरोना केस बढ़े है. उससे ये साफ है कि कोरोना की चुनौती अभी पूरी तरह टली नहीं है. ओमिक्रोन और उसके सब वैरिएंट्स किस तरह गंभीर परिस्थिति पैदा कर सकते हैं, ये यूरोप के देशों में हम देख सकते हैं. ऐसे में हमें अर्लट होने की जरूरत है.

कोरोना संकट को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में पीएम मोदी ने कहा, बीते 2 वर्षों में कोरोना को लेकर ये हमारी 24वीं बैठक है, कोरोना काल में जिस तरह केंद्र और राज्यों ने मिलकर काम किया है और जिन्होंने कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई में अहम भूमिका निभाई है मैं सभी कोरोना वॉरियर्स की प्रशंसा करता हूं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हमारे देश में लंबे समय के बाद स्कूल खुले हैं, ऐसे में कोरोना केस के बढ़ने से कहीं ना कहीं अभिभावकों की चिंता बढ़ रही है. बच्चों के संक्रमित होने की खबरें सामने आ रही है, लेकिन संतोष की बात है कि बच्चों को वैक्सीन का कवच मिल रहा है. कल ही छह से 12 साल तक के बच्चों के लिए कोरोना टीकाकरण की अनुमति मिल गई है. पहले की तरह स्कूल में विशेष अभियान चलाने की जरूरत होगी.

प्रधानमंत्री ने कहा, दो साल के भीतर देश ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर ऑक्सीजन तक सुधार किया है. आज कोरोना की जो स्थिति है, उसमें यह जरूरी है कि अस्पतालों में भर्ती मरीजों का RTPCR टेस्ट जरूर किया जाए और पॉजिटिव आने वाले मरीजों के सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए जरूर भेजे जाएं. प्रधानमंत्री ने कहा, यह सुनिश्चित करें कि जनता में पैनिक ना फैले. हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड करने का काम चलता रहना चाहिए. सारी सुविधाएं संचालित स्थिति में हों, यह भी सुनिश्चित करें. अगर कहीं कोई समस्या है, उसे उच्च स्तर पर सुलझाया जाए.

बता दें, प्रधानंमत्री मोदी की यह मीटिंग बेहद नाजुक वक्त हुई है. देश में इस वक्त कोरोना की चौथी लहर का खतरा है. पिछले 24 घंटे में भी करीब तीन हजार नए मामले सामने आए हैं, वहीं 32 लोगों की वायरस के चलते जान चली गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here