सऊदी अरब में पाकिस्तानियों का बैन, इमरान की बढ़ी टेंशन, शेख को जुटे मनाने!

0
34

पाकिस्तान की आवाम को चीनी वैक्सीन लगवाकर इमरान खान बुरे फंस गए है. दरअसल, चीनी वैक्सीन लगवाने वाले पाकिस्तान को सऊदी अरब और खाड़ी देशों में एंट्री नहीं मिल रही है. भले ही चीनी वैक्सीन ‘सिनोफार्म’ और ‘सिनोवैक’ को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मान्यता दे दी हो, लेकिन सऊदी अरब सहित कई देशों को इन पर विश्वास नहीं है. इसलिए उन्होंने ऐसे लोगों की एंट्री बैन कर रखी है, जिन्होंने चीनी वैक्सीन लगवाई है.

बता दें, पाकिस्तान से बड़े पैमाने पर लोग सऊदी अरब में काम करते हैं, ऐसे में सऊदी सरकार का यह फैसला उसके लिए बड़ी मुश्किल बन गया है. पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री शेख रशीद ने हाल ही में कहा था कि प्रधानमंत्री इमरान खान व्यक्तिगत तौर पर इस मामले को देख रहे हैं, क्योंकि सऊदी अरब के साथ कुछ और मध्य-पूर्व के देश चीन की वैक्सीन को मान्यता नहीं दे रहे हैं. वहीं, डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, सऊद अरब में जिन वैक्सीन की सिफारिश की गई हैं, उसमें फाइजर, एस्ट्राजेनिका, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन शामिल हैं.

सऊदी अरब के फैसले से इमरान टेंशन में

सऊदी अरब के इस फैसले से पाकिस्तान टेंशन में आ गया है और यह टेंशन शेख रशीद की प्रेस कॉन्फेंस में साफ तौर पर नजर आई. इस दौरान उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने कैबिनेट को बताया है कि वे चीनी वैक्सीन के मुद्दे पर मध्य-पूर्वी देशों के साथ संपर्क में हैं. सिनोफार्म अच्छी वैक्सीन है और मैं इस मामले में चीन के सहयोग के लिए उसका धन्यवाद करता हूं’. गौरतलब है कि बीजिंग की बायो-इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स कंपनी लिमिटेड की तरफ से तैयार की कई गई सिनोफार्म कोविड-19 वैक्सीन को डब्ल्यूएचओ ने आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है.

फाइडर पर दिखाएंगे भरोसा

इससे पहले, सऊदी अरब की शर्तों को देखते हुए पाकिस्तान की तरफ से कहा गया था कि जो लोग वर्क वीजा पर बाहर काम कर रहे हैं या फिर वहां पढ़ाई के लिए या हज के लिए जाना चाहते हैं, उन्हें फाइजर की वैक्सीन लगाई जाएगी. बता दें, कई देशों ने चीनी वैक्सीन को लेकर चिंता जताई है. क्योंकि उसके असर को लेकर विश्वास कायम नहीं हो पा रहा है. जिन देशों ने चीनी वैक्सीन पर निर्भरता जाहिर की थी, आज उन्हें दूसरी वैक्सीन का रुख करना पड़ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here