मोहन भागवत के हिंदुत्व बयान पर ओवैसी का पलटवार, बोले- हिंसा और कत्ल गोडसे की हिंदुत्व वाली सोच

0
24
Owaisi retaliates on Mohan Bhagwat's Hindutva statement

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के मुखिया मोहन भागवत के हिंदुत्व वाले बयान पर राजनीति गरमा गई है. एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. ओवैसी ने कहा कि मोहन भागवत का यह बयान कायरता, हिंसा और कत्ल करना गोडसे की हिंदुत्व वाली सोच को दर्शाता है. बता दें, बीते रविवार को मोहन भागवत ने सभी भारतीयों का डीएनए एक है, चाहे, वो किसी भी धर्म का हों, उन्होंने लिंचिंग को लेकर कहा कि इनमें शामिल लोग हिंदुत्व के खिलाफ है और लोकतंत्र में हिंदुओं या मुसलमानों का प्रभुत्व नहीं हो सकता है.

Owaisi retaliates on Mohan Bhagwat's Hindutva statement

एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को एक के बाद ट्वीट कर मोहन भागवत पर तीखा वार किया है, उन्होंने ट्वीट पर लिखा, ‘आरएसएस प्रमुख भागवत ने कहा कि लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी. इन अपराधियों को गाय और भैंस में फर्क नहीं पता होगा, लेकिन कत्ल करने के लिए जुनैद, अखलाक, पहलू, रकबर, अलीमुद्दीन के नाम ही काफी थे. ये नफरत हिंदुत्व की देन है, इन मुजरिमों को हिंदुत्ववादी सरकार की पुश्त पनाही हासिल है.’

Owaisi retaliates on Mohan Bhagwat's Hindutva statement

केंद्रीय मंत्री के हाथों अलीमुद्दीन के कातिलों की गुलपोशी हो जाती है, अखलाक के हत्यारे की लाश पर तिरंगा लगाया जाता है. आसिफ को मारने वालों के समर्थन में महापंचायत बुलाई जाती है, जहां बीजेपी का प्रवक्ता पूछता है कि क्या हम मर्डर भी नहीं कर सकते? उन्होंने कहा कि यह कायरता, हिंसा और कत्ल करना गोडसे की हिंदुत्व वाली सोच का अटूट हिस्सा है. मुसलमानों की लिंचिंग भी इसी सोच का नतीजा है.

Owaisi retaliates on Mohan Bhagwat's Hindutva statement

बता दें, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख भागवत ने कहा था कि सभी भारतीयों का डीएनए एक है, चाहे वे किसी भी धर्म के हों, उन्होंने लिंचिंग को लेकर कहा कि इसमें शामिल लोग हिंदुत्व के खिलाफ हैं और लोकतंत्र में हिंदुओं या मुसलमानों का प्रभुत्व नहीं हो सकता है. हिंदू-मुस्लिम एकता भ्रामक है, क्योंकि वे अलग नहीं बल्कि एक हैं. उन्होंने कहा था कि पूजा करने के तरीके को लेकर लोगों के बीच अंतर नहीं किया जा सकता. कुछ काम ऐसे हैं, जो राजनीति नहीं कर सकती. राजनीति लोगों को एकजुट नहीं कर सकती.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here