यूपी में बुलडोजर एक्शन पर आया ओवैसी-मायावती-अखिलेश का रिएक्शन, जानिए किसने क्या बोला!

0
36

नुपूर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद पर विवादित बयान पर 10 जून को भड़की हिंसा के बाद यूपी प्रशासन तेजी से उपद्रवियों पर कार्रवाई कर रही है. इसी बीच प्रयागराज हिंसा के ‘मास्टरमाइंड’ जावेद मोहम्मद ऊर्फ जावेद पंप के घर को रविवार को बुलडोजर से ढहा दिया गया. इसके सियासी दलों का रिएक्शन आना शुरू हो गया है. यूपी में बुलडोजर की कार्रवाई पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव, बसपा चीफ मायावती और AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने योगी सरकार के खिलाफ नाराजगी जाहिर की है.

बुलडोजर के एक्शन पर अखिलेश का रिएक्शन

समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव ने प्रयागराज हिंसा के मास्टरमाइंड जावेद मोहम्मद के घर पर बुलडोडर की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए कहा, ‘ये कहां का इंसाफ है कि जिसकी वजह से देश में हालात बिगड़े और दुनियाभर में सख्त प्रतिक्रिया हुई वो सुरक्षा के घेरे में हैं और शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को बिना वैधानिक जांच पड़ताल बुलडोजर से सजा दी जा रही है. इसकी अनुमति ना हमारी संस्कृति देती है, ना धर्म, ना विधान, ना संविधान.

घरों को ध्वस्त करके पूरे परिवार को टारगेट करना गलत-मायावती

यूपी में बुलडोजर की कार्रवाई पर बसपा प्रमुख मायावती ने योगी सरकार पर निशाना साधा है, उन्होंने ट्वीटर पर लिखा, ‘यूपी सरकार एक समुदाय विशेष को टारगेट करके बुलडोजर से घर ढहा रही है. विरोध को कुचलने और भय, आतंक का जो माहौल बनाया जा रहा है, यह अन्याय है. घरों को ध्वस्त करके पूरे परिवार को टारगेट करने की दोषपूर्ण कार्रवाई का कोर्ट जरूर संज्ञान ले’.
मायावती ने समस्या की मूल जड़ रही भाजपा से निलंबित नेता नुपूर शर्मा और नवीन जिंदल को बताया और कहा, जिनके कारण देश का मान-सम्मान प्रभावित हुआ और हिंसा भड़की, उनके विरुद्ध कार्रवाई नहीं करके सरकार द्वारा कानून के राज का उपहास क्यों? दोनों आरोपियों को अभी तक जेल नहीं भेजना घोर पक्षपात व दुर्भाग्यपूर्ण. तत्काल गिरफ्तारी जरूरी.

अब अदालतों को ताला लगा देना चाहिए क्योंकि फैसला योगी करेंगे-ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिममीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, यूपी के मुख्यमंत्री अब उत्तर प्रदेश के चीफ जस्टिस बन चुके हैं. वो अब फैसला करेंगे कि किसका घर तोड़ना है. प्रयागराज में जो घर तोड़ा गया है वह तथाकथित आरोपी की पत्नी के नाम है. मुसलमानों को सामूहिक सजा दे रहे हैं. ओवैसी ने आगे कहा, उत्तर प्रदेश में कोर्ट और अदालतों में ताला लगा देना चाहिए और जजों को कह देना चाहिए कि वो कोर्ट ना जाएं, क्योंकि अब अदालत की कोई जरूरत नहीं है. क्योंकि ये फैसला तो सीएम योगी करेंगे कि आखिरकार मुलजिम कौन है?

बता दें, प्रयागराज में जावेद मोहम्मद के घर बुलडोजर से ध्वस्तीकरण की कार्रवाई का मामला अब सियासी तौर पर गरमाता जा रहा है. राजनीतिक दलों ने निशाने पर योगी सरकार है तो दूसरी तरफ वकीलों के एक समूह ने इसको लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को पत्र लिखा है. पत्र में वकीलों की तरफ से कहा गया है कि जिस घर को बुलडोजर के जरिए तोड़ा गया है उसका मालिक आरोपी जावेद मोहम्मद नहीं था. घर जावेद की पत्नी के नाम है. घर को ध्वस्त करना कानून के खिलाफ है. आरोपी की पत्नी को अवैध निर्माण की कोई पूर्व सूचना नहीं दी गई थी. हालांकि, प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने तर्क दिए हैं कि उन्हें दो बार नोटिस दी जा चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here