लखनऊ, वाराणसी, कानपुर और नोएडा में नाइट कर्फ्यू, रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक घर से बाहर निकलने पर रहेगी पाबंदी

0
24

दुनिया का सबसे खतरनाक वायरस कोरोना का वैक्सीनेशन प्रोग्राम चलने के बावजूद रोजाना नए मामले दर्ज किए जा रहे है. गुरुवार को 1.26 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए. महाराष्ट्र, पंजाब, गुजरात, मध्यप्रदेश, दिल्ली के बाद उत्तर प्रदेश के हालात बिगड़ते जा रहे है. ऐसे यूपी की योगी सरकार ने सूबे के 13 ऐसे शहरों को चिन्हित किए हैं, जहां पर 500 से ज्यादा केस सामने आ गए हों. इन जिलों के जिलाधिकारी को अधिकार दिया गया है कि वह जरुरत के अनुसार नाइट कर्फ्यू लगा सकते है यानी अगर जिलाधिकारी चाहें, तो रात में सड़कों पर निकलने में पाबंदी लगाई जा सकती है.

v

उधर, कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए और इस अधिकार का इस्तेमाल करते हुए प्रशासन ने बड़ा कदम उठाया है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, नोएडा और वाराणसी में नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है.

नाइट कर्फ्यू का समय

किसको मिलेगी छूट

जिलाधिकारी ने लखनऊ में चिकित्सा, नर्सिंग और पैरा मेडिकल संस्थानों को जरूरत के समय रात में बाहर आने की छूट दी हुई है. वहीं, गाइडलाइन के अनुसार, लखनऊ में पार्क खोलने का भी समय निर्धारित किया गया है. यहां, सुबह 7 से 10 और फिर शाम 4.00 से रात 8.00 बजे तक ही पार्क खुले रहेंगे. इसके साथ ही, कोविड के प्रोटोकॉल (मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग) का पालन करना भी जरूरी होगा.

आईसीयू और वेंटिलेटर बेड की नहीं होगी कमी

लखनऊ समेत 32 जिलों में कोरोना मरीजों के लिए आईसीयू और वेंटिलेटर बेड की कमी अब दूर होगी. इन जिलों में लेवल टू और थ्री के बेड दोगुने किए जा रहे हैं, साथ ही, चिकित्सा संस्थानों और मेडिकल कॉलेजों में कुल 16,422 बेड बढ़ेंगे.

सीएम योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर दिया था निर्देश

दरअसल, कोरोना महामारी से प्रदेश के जो 13 जिले ज्यादा प्रभावित हैं, वहां की स्थिति में सुधार लाने के लिए सीएम योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जिलाधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं. साथ ही, उन्होंने हर जिले की स्थिति की समीक्षा भी की.

जानिए यूपी के वह 13 जिले

हालांकि कोरोना महामारी ने गति पकड़ ली है और वायरस ज्यादा आक्रामक हो गया है. इन जिलों में एक्टिव केस की संख्या ज्यादा है. हालांकि पॉजिटिविटी रेट कम हुआ है.

सख्ती बरतनी है जरूरी

सीएम का निर्देश है कि इन जिलों समेत पूरे प्रदेश में ही कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की स्पीड बढ़ाई जाए. लोगों को ट्रेस कर उनका कोरोना टेस्ट कराया जाए और जरूरत पड़ने पर लोगों को तुरंत आइसोलेट कर मेडिकल मदद दी जाए. इसके अलावा, सीएम का निर्देश है कि निगरानी समितियों और इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को जरूरत में लाया जाए और इनकी उपयोगिता बढ़ाई जाए. पब्लिक एड्रेस सिस्टम का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जाए. साथ ही, मास्क न लगाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए उनपर जुर्माना लगाया जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here