यूपी-पंजाब के कई ठिकानों पर NIA की छापेमारी, खालिस्तानी आतंकवादियों का जबरन पैसे वसूलने का दर्ज था मामला

0
52

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पंजाब के मोगा जिले में दर्ज खालिस्तानी आतंकवादियों के द्वारा कथित रुप से जबरन धन उगाही और धमकी देने के मामले में पंजाब और उत्तर प्रदेश के करीब 9 ठिकानों पर छापेमारी की है. यह जानकारी एनआईए के जांच अधिकारी ने बताई है. जांच अधिकारी ने बताया कि पंजाब में बरनाला, मोगा, फिरोजपुर और उत्तर प्रदेश के मेरठ और मुजफ्फरनगर जिले में छापेमारी की गई है, उन्होंने बताया कि इस संबंध में मई में मोगा जिले में भारतीय दंड संहिता, एनडीपीएस अधिनियम, सशस्त्र कानून और गैरकानूनी गतिविधि (निषेध) अधिनियम की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी.

जांच अधिकारी ने बताया कि यह एफआईआर पंजाब पुलिस को मिली जानकारी के आधार पर दर्ज की गई जिसके मुताबिक मोगा के अर्शदीप सिंह, बरनाला के चरणजीत सिंह और फिरोजपुर के रमणदीप सिंह फिलहाल सभी इस वक्त विदेश में हैं और वहीं से अपना गिरोह बनाकर लोगों को धमकी देने और जबरन उगाही का काला धंधा चला रहे है. बहरहाल, पंजाब पुलिस के बाद अब एनआईए ने इस मामले की जांच अपने हाथ में ले ली है, और दोबारा एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई शुरु कर दी है. जांच अधिकारी ने बताया कि तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है उनके कब्जे से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किए गए है.


इस तरह से बनाया गया आतंकवादी गिरोह

एनआईए अधिकारी के मुताबिक भगोड़े अर्शदीप-हरदीप सिंह का करीबी सहयोगी है, जिसे भारत सरकार ने आतंकवादी घोषित किया है और वह खालिस्तान टाइगर फोर्स (केटीएफ) का मुखिया है. उत्तर प्रदेश और पंजाब के गैंगस्टर और शूटर को शामिल कर आतंकवादी गिरोह बनाया, उन्होंने बताया कि पुलिस की गिरफ्त में आए आरोपियों ने पंजाब के तीन व्यापारियों की कथित तौर पर हत्या की है और अन्य शिकार की भी पहचान की थी.

जांच अधिकारी के मुताबिक तलाशी के दौरान कारतूस के खाली खोखें, पॉलिथीन के एक बैग में 122 ग्राम मादक पदार्थ, सीडी, मोबाइल फोन, सिम कार्ड सहित डिजिटल उपकरण और अपराध में संलिप्तता का संकेत करने वाले कई दस्तावेज मिले. उन्होंने बताया कि मामले की जांच जारी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here