नागपुरः भारत मुक्ति मोर्चा ने की RSS मुख्यालय को घेरने की कोशिश, हिरासत में 200 कार्यकर्ता, धारा 144 लागू

0
68

महाराष्ट्र के नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के मुख्यालय को गुरुवार (6 अक्टूबर) को भारत मुक्ति मोर्चा के नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा घेरने की कोशिश की गई. इस दौरान वहां पर जमकर हंगामा हुआ और नागपुर पुलिस ने हंगामा कर रहे करीब 200 कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने RSS के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. दरअसल, भारत मुक्ति मोर्चा ने यहां पर रैली करने की इजाजत मांगी थी, लेकिन उन्हें इजाजत नहीं मिली. इसके बाद भारत मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता संघ का घेराव करने के लिए निकल पड़े. इसके बाद पुलिस हरकत में आई और तत्काल प्रभाव से कार्रवाई की है.

बता दें, भारत मुक्ति मोर्चा ने जब रैली की इजाजत मांगी थी, तब नागपुर पुलिस ने कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका जाहिर करते हुए रैली की मंजूरी नहीं दी थी. इसके बाद भारत मुक्ति मोर्चा हाईकोर्ट गया और कहा कि रैली की जगह केवल सभा भी कर सकते हैं. हालांकि, नागपुर पुलिस ने तब भी कानून-व्यवस्था का ही प्रश्न उठाया. पुलिस ने कहा कि जहां सभा करने की बात कही जा रही है, वह मैदान छोटा है. भीड़ संभालना मुश्किल हो जाएगा. इसके बाद हाईकोर्ट ने भी मोर्चा की याचिका निरस्त कर दी.

गौरतलब है कि बामसेफ और भारत मुक्ति मोर्चा ने धम्मचक्र परिवर्तन दिवस पर 6 अक्टूबर को नागपुर के बेझनबाग में सभा करने का ऐलान किया था, लेकिन प्रशासन ने भीड़ को देखते हुए इसकी इजाजत नहीं दी. इसके बाद बामसेफ और भारत मुक्ति मोर्चा ने संघ मुख्यालय घेरने की घोषणा कर दी. बामसेफ का आरोप है कि बाबा साहेब के धम्मचक्र में सरकार ने संघ के लोगों की एंट्री करा दी और संघ संविधान विरोधी है.

नागपुर पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार के मुताबिक बेझनबाग मैदान पर भारत मुक्ति मोर्चा सभा करना चाहता था, लेकिन पुलिस ने इजाजत नहीं दी. इसके बाद मामला हाईकोर्ट पहुंचा. सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने भी सभा को अनुमति नहीं दी. इसके बावजूद भारत मुक्ति मोर्चा सभा जबरन हल्लाबोल मोर्चा की तैयारी कर रहा है. इसी को लेकर लोग इकट्ठा हो रहे हैं.

पुलिस ने कहा कि मोर्चा के नेता पुलिस प्रशासन के साथ मिले और चर्चा करें. मोर्चा के लिए अनुमति दी जाएगी, लेकिन 6 अक्टूबर और 9 अक्टूबर को नहीं. इन दोनों तारीख पर अनुमति नहीं दी जा सकती, जिस पर हाईकोर्ट ने भी मुहर लगा दी हैं, उन्होंने कहा कि RSS मुख्यालय पर मोर्चा निकालने के लिए भारत मुक्ती मोर्चा ने आज का प्लान किया था, जिसे कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए इजाजत नहीं दी गई थी. बाद में हाईकोर्ट ने भी मना कर दिया था, लेकिन उन लोगों ने इस फैसले में सहयोग नहीं किया और प्रदर्शन किया. इसलिए जरीपटका और पंचपौली क्षेत्रों में धारा 144 लागू कर दी गई है. कुछ नेताओं को हिरासत में भी लिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here