मोदी और अरविन्द सरकार कोविड मृतकों के वास्तविक आंकड़े छिपा रही हैं – कांग्रेस

0
72


अजीत कुमार


दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार दिल्ली की अरविन्द सरकार पर कोविड महामारी के दौरान हुई मौतों के आंकड़ों को छिपाने का आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली में कोविड से 50 हजार से भी अधिक मौतें हुई जबकि दिल्ली सरकार के सरकारी आंकड़ों में 25095 मौतें दर्शा रही है। कोविड से हुई मौतों के आंकड़ो में राजधानी दिल्ली विश्व भर में नम्बर वन बन गई। नेशनल डिज़ास्टर मेनेजमेंट के प्रावधान के अनुसार आपदा से हुई मौतों पर 4 लाख रुपये मुआवजा केन्द्र सरकार दिल्ली में प्रत्येक कोविड मृतकों के परिवारजनों को तुरंत प्रभाव से देकर लोगों को राहत दें। प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को प्रदेश अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार के साथ अ.भा.क. कमेटी के प्रदेश प्रभारी एवं सांसद शक्तिसिन्ह गोहिल ने भी संबोधित किया।
<P


शक्तिसिन्ह गोहिल ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार और दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल सरकार ने कोविड़-19 महामारी पर नियंत्रण पाने, मरीजों को इलाज मुहैया कराने और कोविड मौतों के वास्तविक आंकड़ों को बताने में पूरी तरह अमानवीय रवैया अपनाते हुए लोगों को गुमराह करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि सरकारों की मानवीय तौर पर जिम्मेदारी होती है कि वह आपदा के समय पीड़ित परिवारों की मदद करें। उन्होंने कहा कि कोविड पूर्व 12फरवरी, 2020 को राहुल गांधी जी ने मोदी सरकार को आगाह किया था कि विश्वव्यापी महामारी के नियंत्रण पर केन्द्र सरकार समय रहते कार्यवाही करें, परंतु मोदी ने कोविड नियंत्रण के लिए घोषणा को भी इंवेट बनाकर 21 दिनां में नियंत्रित करने की घोषणा की, जो एक जुमला साबित हुआ।


गोहिल ने कहा कि 14 मार्च 2020 को केन्द्र सरकार ने डीएमए के अंतर्गत कोविड से होने वाली मौतों को आपदा के तहत 4 लाख मुआवजा देने का आर्डर पास किया था जिसमें 75 प्रतिशत केन्द्र और 25 प्रतिशत राज्यों की भागीदारी होती है। उन्होंने कहा कि कोविड मृतकों के वास्तविक आंकड़े सामने लाने के लिए, मृतकों के परिजन स्वयं आवेदन करें, ऐसा सरकार प्रावधान करें। उन्होंने दिल्ली सरकार पर कोविड़ मौतों के आंकड़ों को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाया। चौ. अनिल कुमार ने कोविड महामारी के नए वेरियंट पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि केन्द्र और दिल्ली सरकार को पूर्व की विफलताओं से सबक लेते हुए नए कोविड वेरियंट से अधिक सचेत रहने की जरुरत है और समय रहते स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को अधिक दुरस्त करें और प्रभावित देशों से आने वाली अंतर्राष्ट्रीय उड़ानां से आने वाले लोगों की सुचारु तरीके सें जांच हो और संक्रमितों को क्वांरटाईन केन्द्र बनाकर निश्चित समय तक रखा जाए। उन्होंने टीकाकरण के लक्ष्य को जल्द से जल्द पूरा करने का सुझाव भी दिया।


चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल ने कोविड काल के दौरान नियंत्रण के लिए कोई कारगर इंतजाम नही किया बल्कि समय रहते केवल दिल्लीवालां को भगवान भरोसे छोड़ दिया। स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के अभाव में हजारों संक्रमितों को रास्ते में, अस्पतालों के बाहर अपनी जान गंवानी पड़ी उनको सरकार कोविड मौतों के आंकड़े में नही अंकित किया गया, यह दुर्भाग्य की बात है। उन्होंने कहा कि देश विदेश में हुए सर्वे बता रहे है कि भारत में कोविड मौतों के आंकड़े गलत दर्शाए गए है और दिल्ली सहित देश में डेथ सर्टिफिकेट में भी घपलेबाजी की गई है। उन्होंने कहा कि कोविड मृतकों को डीडीएमए के तहत मुआवजे पर सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए आदेश जारी किया था केन्द्र व राज्य सरकारें प्रत्येक कोविड मृतक को उचित मुआवजा दे। कांग्रेस पार्टी अरविन्द केजरीवाल सरकार से 4 लाख रुपये मुआवजे की मांग शुरु से ही करती आ रही है।


चौ. अनिल कुमार ने मांग की कि डीडीएमए के दिशा निर्देशों के अनुसार दिल्ली सरकार तुरंत प्रभाव से कोविड मृतकों को दी जाने वाली 25 प्रतिशत राशि की अपनी हिस्सेदारी की घोषणा करके केन्द्र सरकार को आवेदन करे ताकि कोविड मृतकों के परिवारजनों को जल्द से जल्द 4-4 लाख मुआवजा दिया जा सके। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अपना आधार गंवा रही आम आदमी पार्टी अपना राजनीति वजूद बचाने की कोशिश में बड़ी-बड़ी घोषणाऐं कर रही है जबकि असलियत में लोगों के कल्याण के लिए किसी भी योजना पर अमल नही किया जा रहा है।


चौ. अनिल कुमार ने कहा कि कांग्रेस ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो महिलाओं को सशक्त बनाती है। श्री शक्ति सिन्ह गोहिल ने रजिया बानो को कांग्रेस मे शामिल होने का श्रेय प्रियंका गांधी जी को दिया क्योंकि उन्होंने उत्तर प्रदेश में महिला उत्पीड़न के खिलाफ उन्होंने लड़ते हुए नारा दिया था कि लड़की हूॅ, लड़ सकती हूॅ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here