जानिए क्या है कोरोना वैक्सीन के बाद मौत का सच, क्या हो रहा है वायरल

0
18
Viral News

इन दिनों देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में कोरोना महामारी से बचने के लिए वैक्सीनेशन का कार्य जोरों पर है। इसी बीच वैक्सीन से जुड़ा एक मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया जा रहा है कि फ्रांसीसी वायरोलॉजिस्ट और नोबेल पुरस्कार विजेता ल्यूक मॉन्टैग्नियर ने कहा है कि “सभी टीकाकरण वाले लोग दो साल के भीतर मर जाएंगे” और COVID-19 टीकाकरण अभियान एक “बड़ी भूल” है।

दावा ये भी किया गया है कि “नोबेल पुरस्कार विजेता ल्यूक मॉन्टैग्नियर ने पुष्टि की है कि जिन लोगों को वैक्सीन का कोई रूप मिला है, उनके बचने की कोई संभावना नहीं है।

बता दें कि LifeSiteNews ने अपने दावे का श्रेय आरएआईआर फाउंडेशन की वेबसाइट पर छपे एक लेख को दिया जो एक यूएस-आधारित एनजीओ है। जो इस्लामिक वर्चस्ववादियों, कट्टरपंथी वामपंथियों और उनके सहयोगियों से खतरों का मुकाबला करने के लिए है।

लेकिन वैक्सीन से जुड़ा ये दावा पूरी तरह से फेक है। पीआईबी के फैक्ट चेक अकाउंट के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने भी साफ किया है कि ये मैसेज फर्जी है। “# COVID19 टीकों पर एक फ्रांसीसी नोबेल पुरस्कार विजेता को कथित तौर पर बदनाम करने वाली एक छवि सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रही है। साथ ही ट्वीट किया कि #COVID19 वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है और इस छवि को आगे न बढ़ाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here