केजरीवाल का नया मिशन ‘राजस्थान’, ओवैसी की पहले ही हो चुकी एंट्री

0
35

दिल्ली और पंजाब में सरकार चला रही आम आदमी पार्टी ‘आप’ लगातार संगठन का विस्तार कर रही है. गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव में पूरा जोर लगा रही ‘आप’ अब राजस्थान में सियासी जमीन तलाशने में जुट गई है. दरअसल, अगले साल 2023 के अतं में होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री और ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल अगले महीने राजस्थान दौरे पर है. यह दौरा अगले साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर बनाया गया है.

बता दें, ‘आप’ विधायक नरेश बाल्यान ने पार्टी की इस प्लान का खुलासा किया है. विधायक ने ट्विटर पर केजरीवाल के कार्यक्रम के बारे में बताते हुए यह भी संकेत दिया कि यहां उनके निशाने पर सत्ताधारी कांग्रेस है. नरेश ने ट्वीट किया, ‘7 और 8 अक्टूबर को राजस्थान के जयपुर में एक रैली और अगले दिन युवा संवाद कर माननीय अरविंद केजरीवाल जी राजस्थान में एक कथित भ्रष्ट ‘जादूगर’ की जादूगरी छुड़ाएंगे और राजस्थान में बदलाव का आगाज करेंगे.’

अरविंद केजरीवाल के राजस्थान जाने के कार्यक्रम का खुलासा ऐसे समय पर किया गया है जब एक दिन पहले ही ऑल इंडिया मजलि-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने राजस्थान के शेखावाटी से चुनावी बिगुल बजाने की घोषणी की. राजस्थान में पार्टी को मजबूत करने के लिए ओवैसी 14 और 15 सितंबर को शेखावाटी इलाके में जिलों का दौरा करेंगे. ओवैसी राजस्थान में पहली बार 4 जनसभाओं को भी संबोधित करेंगे. AIMIM राजस्थान में 40 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है.

वहीं, ‘आप’ और AIMIM की एंट्री के बाद राजस्थान में मुकाबला बेहद दिलचस्प हो गया है. कांग्रेस और भाजपा के बीच मुख्य मुकाबला देखते रहे राज्य में अब दो नए दलों की एंट्री से राजनीतिक समीकरण में बदलाव निश्चित है. ओवैसी और केजरीवाल की एंट्री से राजस्थान में किसे फायदा होगा और किसे नुकसान यह तो आने वाले वक्त में पता चलेगा, लेकिन यह तो तय है कि कांग्रेस के साथ भाजपा की भी सिरदर्दी बढ़ने वाली है. दोनों ही दलों को नए सिरे से अपनी रणनीति बनानी होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here