कोरोना के नए वैरिएंट पर केजरीवाल की किरकिरी, सिंगापुर सरकार ने भारतीय हाईकमिश्नर को किया तलब

0
16
Kejriwal Govt.

इस वक्त हिंदुस्तान में कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही है और तीसरी लहर को लेकर पहले ही चेतावनी दी जा चुकी है. वहीं, सिंगापुर में कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा किए गए ट्वीट पर विवाद बढ़ता जा रहा है. सिंगापुर सरकार ने कोविड के नए वेरिएंड की बात को सिरे से खारिज कर दी है और भारतीय हाईकमिश्नर को भी इस मामले में तलब किया है. वहीं, अब विदेश मंत्रालय भी इस मामले को लेकर सक्रिय हो गया है.

Kejriwal Govt.

दरअसल, बीते मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया था. जिसमें उन्होंने लिखा था कि सिंगापुर में आया कोरोना का नया रूप बच्चों के लिए बेहद खतरनाक बताया जा रहा है, भारत में ये तीसरी लहर के रूप में आ सकता है. केंद्र सरकार से मेरी अपील है कि सिंगापुर के साथ हवाई सेवाएं तत्काल प्रभाव से रद्द हों. इसके साथ ही बच्चों के लिए भी वैक्सीन के विकल्पों पर प्राथमिकता के आधार पर काम हो.

वहीं, केजरीवाल के इस ट्वीट का जवाब देते हुए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय उड़ाने मार्च 2020 से ही बंद हैं, लेकिन इस ट्वीट से सिंगापुर की सरकार अब नाराज हो गई है.

Kejriwal Govt.

केजरीवाल के ट्वीट का सिंगापुर दूतावास ने दिया जवाब

हिंदुस्तान में मौजूद सिंगापुर दूतावास की ओर से पहले अरविंद केजरीवाल के ट्वीट का जवाब दिया गया है, जिसमें कहा गया है कि सिंगापुर में कोरोना का नया वैरिएंट मिलने की बात पूरी तरह से गलत है. इसमें कोई जरा सी सच्चाई नहीं है. टेस्टिंग के आधार पर पता चला है कि सिंगापुर में हाल के हफ्तों में B.1.617.2 वैरिएंट बच्चों सहित कई लोगों में पाया गया है.

केजरीवाल के बयान से खफा सिंगापुर सरकार

वहीं, अब सिंगापुर सरकार ने भारतीय हाईकमिश्नर को तलब कर इस ट्वीट पर आपत्ति जताई है. इसके बाद विदेश मंत्रालय की ओर से इसका जवाब दिया गया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री के पास कोविड के नए वैरिएंट या विमान नीति पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है.

Kejriwal Govt.

भारत सरकार का नहीं है यह बयान

वहीं, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी इस विवाद पर एक ट्वीट के जरिए भारत का स्टैंड स्पष्ट किया है, उन्होंने लिखा है कि सिंगापुर और भारत दोनों देश कोरोना से जंग लड़ रहे हैं. सिंगापुर ने भारत की इस दौरान जो मदद की है उसके लिए उनका धन्यवाद. दिल्ली के मुख्यमंत्री का बायन भारत का बयान नहीं है.

Kejriwal Govt.

बता दें, सिर्फ सिंगापुर के दूतावास ही नहीं, बल्कि सिंगापुर की सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मंगलवार को प्रेस रिलीज जारी कर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दावे का खंडन किया था. सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालाकृष्णन ने भी इस मसले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जवाब दिया. उन्होंने कहा कि राजनेताओं को तथ्यों पर बात करनी चाहिए, कोरोना का कोई सिंगापुर वैरिएंट नहीं है.

दिल्ली सरकार ने दी सफाई

इस पूरे विवाद के बीच अब दिल्ली सरकार की सफाई आई है, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि इस वक्त कोरोना के अलग-अलग स्ट्रेन हैं, जिनका जीनोम सीक्वेंसिंग से पता चल रहा है. जब लंदन से फ्लाइट आ रही थी, हमने तब भी उन्हें रोकने की अपील की थी.

बता दें, हिंदुस्तान में एक्सपर्ट्स ने चेतावनी दी है कि कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है, जिसमें बच्चों पर सर्वाधिक खतरा हो सकता है. ऐसे में अभी से तैयारियां की जा रही हैं, बीते दिनों ही भारत सरकार ने बच्चों पर वैक्सीन के ट्रायल की मंजूरी दी थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here