रेप केस में फंसे पत्रकार तरूण तेजपाल 8 साल बाद बरी, गोवा की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने सुनाया फैसला

0
57
Journalist Tarun Tejpal

बलात्कार केस में फंसे तहलका मैगजीन के पूर्व एडिटर-इन-चीफ तरूण तेजपाल को बड़ी राहत मिली है. 8 साल बाद गोवा की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने तरूण तेजपाल को बरी कर दिया. बता दें, पत्रकार तरूण तेजपाल पर साल 2013 में गोवा के एक लक्जरी होटल की लिफ्ट के अंदर महिला सहकर्मी का यौन उत्पीड़न करने का आरोप था. अतिरिक्त जिला अदालत 27 अप्रैल को फैसला सुनाने वाली थी लेकिन न्यायाधीश क्षमा जोशी ने फैसला 12 मई तक स्थगित कर दिया था. 12 मई को फैसला एक बार फिर 19 मई के लिए टाल दिया गया था.

Journalist Tarun Tejpal

बीते हफ्ते ही तरुण तेजपाल के वकील राजीव गोम्स का निधन का हो गया था. तरुण तेजपाल ने वकील राजीव गोम्स के निधन पर शोक व्यक्त किया है और कहा है कि राजीव से बेहतर वकील की कोई मुवक्किल कभी उम्मीद नहीं कर सकता. तेजपाल ने कहा कि राजीव हमेशा उनसे कहते थे कि भगवान ने बेकसूरों की लड़ाई लड़ने के लिए उन्हें भेजा है. उन्होंने अपने बयान में कहा, ‘साल 2013 में मुझ पर झूठे आरोप लगाए गए. आज कोर्ट ने बरी कर दिया. बीते 7 साल मेरे और मेरे परिवार के लिए बहुत कठिन रहे हैं.

Journalist Tarun Tejpal

मामूल हो अदालत ने पूर्व में कहा था कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के चलते स्टाफ की कमी के कारण स्थगन किया गया था. गोवा पुलिस ने नवंबर 2013 में तेजपाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. तेजपाल मई 2014 से जमानत पर बाहर है. गोवा अपराध शाखा ने तेजपाल के खिलाफ चार्जशाट दाखिल की थी.

बॉम्बे हाई कोर्ट से तेजपाल की याचिका हुई थी खारिज

तेजपाल ने इससे पहले अपने खिलाफ आरोप तय किए जाने पर रोक लगाने के लिए बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन उनकी याचिका खारिज कर दी गई थी.

Journalist Tarun Tejpal

इन धारों के तहत तेजपाल पर चला मुकदमा

तेजपाल पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 341 (गलत तरीके से रोकने), 342 (गलत तरीके से रोककर रखना), 354 (गरिमा भंग करने की मंशा से प्रताड़ना), 354-A (यौन उत्पीड़न), 354-B (महिला पर हमला या आपराधिक रूप से बल का इस्तेमाल), 376 (2) (एफ) (महिला से ऊंचे पद पर आसीन व्यक्ति द्वारा बलात्कार) और 376 (2) (के) (ऊंचे पद पर आसीन व्यक्ति द्वारा बलात्कार) के तहत मुकदमा चल रहा है.

Journalist Tarun Tejpal

तेजपाल पर बलात्कार का लगा था आरोप

तरूण तेजपाल पर साथी महिला पत्रकार ने आरोप लगाया था कि गोवा में तहलका का एक इवेंट था, उस रात जब वह एक गेस्ट को उसके कमरे तक छोड़ कर वापस लौट रही थी, तो इसी होटल के ब्लॉक 7 के एक लिफ्ट के सामने उसे उसके बॉस तरुण तेजपाल मिल गए. तेजपाल ने गेस्ट को दोबारा जगाने की बात कह अचानक उसे वापस उसी लिफ्ट के अंदर खींच लिया. वहीं, गोवा पुलिस को दिए गए बयान में लड़की ने कहा था, अभी मैं कुछ समझ पाती इसी बीच तेजपाल ने लिफ्ट के बटन कुछ ऐसे दबाने शुरू किए, जिससे ना तो लिफ्ट कहीं रुके और ना ही दरवाजा खुले और तब तेजपाल ने इसी बंद लिफ्ट में जो कुछ किया, जब उसके राज खुले तो तरुण तेजपाल की जिंदगी में ही तहलका मच गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here