चीन में जिनपिंग सरकार की क्रूरता, हॉन्गकॉन्ग के मीडिया मुगल जिमी लाइ से कैदियों जैसा किया व्यवहार

0
91

हॉन्गकॉन्ग को निगलने की कोशिश कर रहा चीन वहां के मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को जुल्म की जंजीरों से बांध रहा है. चीन के अत्याचार की सबसे बड़ी गवाही हॉन्गकॉन्ग के बड़े उद्योगपति और मीडिया कंपनी के मालिक जिमी लाइ (Jimmy Lai) हैं. जिन्हें चीन की कम्यूनिस्ट सरकार ने नेशनल सिक्योरिटी कानून के तहत जेल में बंद कर रखा है. जिमी लाइ को जब कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया तो उनके हाथों में हथकड़ी लगी हुई थी जिसे कैदी वैन के साथ बांधकर रखा गया था.

हॉन्गकॉन्ग में जो भी आजादी की बात करता है उसे गद्दार और देशद्रोही बताकर जेल में रखा जाता है. 73 साल के मानवाधिकार कार्यकर्ता और हॉन्गकॉन्ग की आजादी के लिए लड़ने वाले प्रसिद्ध उद्योगपति जिमी लाइ को चीन की शी जिनपिंग सरकार लगातार टॉर्चर कर रही है.


प्रसिद्ध उद्योगपति के खिलाफ कई धाराएं

73 साल के मानवाधिकार कार्यकर्ता और हॉन्गकॉन्ग के प्रसिद्ध उद्योगपति जिमी लाइ हॉन्गकॉन्ग को चीनी अत्याचार से आजादी दिलाने के लिए संघर्ष कर रहे थे. लेकिन, चीन की शी जिनपिंग सरकार ने उन्हें नए बनाए गए नेशनल सिक्योरिटी कानून के तहत जेल में बंद कर दिया है. जब उन्हें हॉन्गकॉन्ग कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया तो उनके हाथों में हथकड़ी थी जो पुलिस वैन से बंधी थी. 73 साल के बुजुर्ग और बड़े उद्योगपति को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने हथकड़ी डालकर एक पुलिस वैन से बांधकर रखा था. उनके ऊपर चीन से गद्दारी, देशद्रोही, अलगाववाद छेड़ने, चीन के खिलाफ युद्ध छेड़ने, विदेशों से पैसा लेकर हॉन्गकॉन्ग में हिंसा भड़काने समेत कई मुकदमे दर्ज किए गये हैं.

चीन ने पिछले साल हॉन्गकॉन्ग में नेशनल सिक्योरिटी कानून लागू किया है, जिसके तहत हजारों मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है. चीन की कम्यूनिस्ट सरकार उन कार्यकर्ताओं पर जुल्म कर रही है. अगर चीनी सरकार एक बड़े उद्योगपति के साथ इस तरह का सलूक कर रही है तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वहां के सामान्य मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की क्या स्थिति होगी.


लोकतंत्र के लिए है जिमी लाइ का संघर्ष

जिमी लाइ हॉन्गकॉन्ग के प्रसिद्ध उद्योगपति हैं और वो लोकतंत्र के प्रबल समर्थकों में से एक हैं. जिमी लाइ ने लोकतंत्र का दमन करने वाली चीन की कम्यूनिस्ट सरकार के खिलाफ अपने टीवी चैनल के जरिए विद्रोह का ऐलान कर दिया. जिसके बाद उन्हें नेशनल सिक्योरिटी कानून के तहत गिरफ्तार कर लिया गया. जिमी लाइ डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता भी हैं जिनका उद्येश्य हॉन्गकॉन्ग में लोकतंत्र की स्थापना करना और चीनी प्रभाव से मुक्त कराना है. हॉन्गकॉन्ग में उनका प्रसिद्ध अखबार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here