नेपाल में मारा गया भारत में नकली नोट सप्लाई करने वाला ISI एजेंट!

0
48

नेपाल की राजधानी काठमांडू में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ‘इंटर-सर्विसेस इंटेलिजेंस’ (ISI) के एजेंट के रुप में काम करने वाले एक शख्स की, उसी के घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस हत्याकांड की पूरी घटना उसके घर के बाहर लगे CCTV कैमरे में कैद हो गई. CCTV कैमरे में पाकिस्तानी एजेंट को अज्ञात हमलावर गोली मारते हुए दिखाई दे रहे है. मारे गए एजेंट का अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के डी-कंपनी से ताल्लुक बताया जा रहा है. यह पूरी घटना 19 सिंतबर की बताई जा रही है. हालांकि, गोली किसने मारी और क्यों मारी इसका यह जानकारी सामने नहीं आई है. खुफिया एजेंसियों की मानें तो वह भारत में ISI के नकली नोटों का सबसे बड़ा सप्लायर था.

खबरों की मानें, तो पाकिस्तान की ISI के लिए काम करने वाले एजेंट की पहचान 55 वर्षीय लाल मोहम्मद उर्फ मोहम्मद दारजी के रूप में हुई है. ISI के कहने पर लाल मोहम्मद पाकिस्तान और बांग्लादेश से नेपाल में नकली भारतीय करेंसी लाता था और फिर वहां से भारत को सप्लाई करता था. खुफिया अधिकारियों के हवाले से बताया गया है कि लाल मोहम्मद ने ISI को लॉजिस्टिक्स सपोर्ट में भी मदद की और अंडरवर्ल्ड गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम के डी-गैंग से साथ भी संबंध थे. उसने अन्य ISI एजेंटों को भी शरण दी थी.

CCTV फुटेज में दिखा कि लाल मोहम्मद काठमांडू के गोथार इलाके में अपने घर के बाहर लग्जरी कार से नीचे उतरा, उसके कुछ देर बाद दो हमलावरों ने उस पर फायरिंग शुरू कर दी. लाल मोहम्मद ने अपनी कार के पीछे छिपने की कोशिश की, लेकिन हमलावरों ने फायरिंग करना जारी रखी. फायरिंग की आवाज सुन लाल मोहम्मद की बेटी अपने पिता को बचाने के लिए घर की पहली मंजिल से नीचे कूद गई, लेकिन, वह जब तक अपने पिता के पास पहुंची, तब तक हमलावरों ने लाल मोहम्मद की हत्या कर दी और भागने में सफल रहे.

ISI अपनी पैठ को नेपाल में लगातार मजबूत कर रही है. नेपाल में उसे भारत से ज्यादा सुरक्षा मिलती है और आतंकी गतिविधियों को चलाने में आसानी होती है. इस कारण पिछले कुछ दशक से नेपाल ISI आतंकियों का गढ़ बन गया है. कुछ साल पहले नेपाल से ही पाकिस्तानी सेना का एक रिटायर्ड अधिकारी गायब हो गया था. तब पाकिस्तान ने शक जताया था कि इसके पीछे भारतीय खुफिया एजेंसियों का हाथ है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here