IAS गौरव दहिया पर अलीगढ़ में मुकदमा दर्ज, अश्लील वीडियो बनाने से लेकर ब्लैकमेल तक जुड़ा है मामला

0
374

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ की एक अदालत की दखल के बाद गुजरात कैडर के आईएएस गौरव दहिया पर अतरौली थाने में 24 जनवरी को मुकदमा दर्ज किया गया है. अतरौली की रहने वाली एक महिला का आरोप है कि आईएएस ने खुद को तलाकशुदा बताकर शादी की थी.

अतरौली के एक मोहल्ले की रहने वाली युवती दिल्ली में रहने लगी थी. तीन साल पहले उसके फेसबुक अकाउंट पर शादी का प्रस्ताव आया और बात करने के लिए गुजरात बुलाया गया. युवती का कहना है कि आईएएस अधिकारी निवासी बिहाइंड गार्डन सेक्टर 9 गांधी नगर गुजरात की ओर से आए प्रस्ताव को ठुकरा नहीं सकी और वहां पहुंच गई तो पता चला कि शादी करने वाला अधिकारी पहले से ही शादीशुदा है.

युवती के अनुसार आईएएस अधिकारी ने उसे बताया कि उसके पत्नी से संबध अच्छे नहीं है और तलाक होने वाला है. युवती ने कहा कि कुछ जीवन की परेशानियां हैं उनको दूर करने के बाद शादी के बारे में सोचा जाएगा. आरोप है कि आईएएस अधिकारी ने एक होटल में कोल्डड्रिंक मंगाई. इसमें कुछ नशीला पदार्थ डाल दिया जिसे पीकर वह बेहोश हो गई.

इसी दौरान अधिकारी ने उसके साथ रेप किया. इसके बाद अधिकारी ने फिर शादी का प्रस्ताव रखा. इसके बाद अधिकारी दुर्व्यवहार करने लगा. अश्लील वीडियो बनाकर दिखाई और धमकी दी कि विरोध पर रिश्तेदारों में दिखा देगा. इससे वह डर गयी और शांत रही.

आरोप है कि आईएएस वर्ष 2017 से लेकर 2020 तक परेशान करता रहा. इस बीच महिला गर्भवती हुई तो गर्भ गिराने के लिए दबाव बनाने लगा. उसको एक क्लीनिक पर ले जाया गया, जहां महिला ने गर्भपात कराने से मना कर दिया और बाद में एक बेटी को जन्म दिया. वह बेटी अब ढाई साल की हो गई है.

आरोप है कि उक्त अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई के लिए अतरौली थाने में चार बार तहरीर दी गई, लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं किया गया. बाद में महिला को कोर्ट का सहारा लेना पड़ा. न्यायालय के आदेश पर कार्रवाई की गयी है. महिला का कहना है कि गुजरात के ये अधिकारी निलंबित हो चुका है. लेकिन सजा नहीं मिल पा रही है. अब उम्मीद है कि अतरौली थाने में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद कार्रवाई होगी.


बेटी का लिया गया डीएनए

आईएएस से अधिकारी से संबंध के बाद उसकी बेटी बताने वाली युवती की ढाई वर्षीय बेटी का दिल्ली से आई टीम ने डीएनए जांच के लिए नमूना लिया है. इसकी रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो सकेगी. गुजरात के अधिकारी के खिलाफ रिपोर्ट कराने वाली महिला का आरोप है कि अब उसकी जान को खतरा बना हुआ है. उसको अतरौली पुलिस पर कतई विश्वास नहीं है. इसलिए उसकी सुरक्षा केंद्रीय पुलिस बल से कराई जाए.

वकील ने बताया जान का खतरा
महिला के अधिवक्ता प्रवेन्द्र राघव का कहना है कि अतरौली पुलिस को कोर्ट ने रिपोर्ट दर्ज करने के लिए दो जनवरी को ही आदेश कर दिए थे लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया. जब महिला के वकील ने कोर्ट के आदेश की अवहेलना की वकालत की तो कोतवाली प्रभारी को 350 धारा का नोटिस जारी कर दिया. इसके बाद पुलिस ने 24 जनवरी को मुकदमा कायम किया गया.

ऐसी हालत में पुलिस से महिला को न्याय की कोई उम्मीद नहीं है साथ ही उसकी हत्या भी हो सकती है. मुनिराज जी, एसएसपी, अलीगढ़ का कहना है कि महिला व गुजरात कैडर के आईएएस के बीच पुराना विवाद चला आ रहा है. मामले में दिल्ली में पहले भी मुकदमा दर्ज हो चुका है. अब न्यायालय के आदेश पर अतरौली थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here