‘मैं तुम्हारे साथ एक रात बिताना चाहता हूं’, आर्मी से बर्खास्त 25 वर्षीय लड़की का मेजर पर संगीन आरोप

0
40

कजाकिस्तान की आर्मी से बर्खास्त 25 वर्षीय अघनीम एल्शिबाएवा ने अपने कमांडर पर यौन शोषण का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी है. दिसंबर, 2019 में कजाकिस्तान की आर्मी ज्वाइन करने वाली अघनीम एल्शिबाएवा को बतौर कॉन्ट्रेक्टर रखा गया था, लेकिन मई, 2022 में विवादित परिस्थियों के चलते समय से पहले उनका मिलिट्री करियर खत्म हो गया. डिफेंस मिनिस्ट्री के अनुसार, अघनीम को युद्ध प्रशिक्षण परीक्षण में नाकाम होने की वजह से बर्खास्त कर किया गया.

आर्मी से बर्खास्त होने के बाद अघनीम एल्शिबाएवा ने आरोप लगाया था कि उसे सेना से बाहर करने के लिए मजबूर किया गया था. क्योंकि उसने अपने मेजर के खिलाफ यौन शोषण की शिकायत की थी. अघनीम ने बताया कि सेना ज्वाइन करने के बाद उसके मेजर एर्टाई कोशानोव उसे प्रताड़ित करते थे और उसे यौन संबंध बनाने के लिए मजूबर करते है. यह सब अल्माटी प्रांत के शेंगेल्डी शहर के एक मिलिट्री बेस पर उसके बटालियन में शामिल होने के तुरंत बाद शुरू हुआ. एल्शिबाएवा ने दावा किया कि ‘वह (मेजर) हमेशा मुझे फोन करते थे और कहता था, ‘चलो मिलते हैं’ या ‘मैं तुम्हारे साथ एक रात बिताना चाहता हूं.’ वे मुझे अपने ऑफिस में बुलाते थे, लेकिन अघनीम ने मेजर की बात नहीं मानी और उनका ऑफर ठुकरा दिया. अघनीम ने दावा किया कि इसकी शिकायत सीनियर्स अफसर से भी की थी, लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया.

अघनीम ने बताया कि मेजर द्वारा बार-बार यौन संबंध का विरोध करने के बावजूद मेजर ने उसका पीछा नहीं छोड़ा और हर बार उसे यौन संबंध की पेशकश करता रहा. अघनीम ने बताया कि एक बार उसने सारी हदें पार कर दी और मुझे अन्य सैनिकों के सामने छेड़ने की कोशिश, जिसका मैंने विरोध किया और सबके सामने उसे एक थप्पड़ भी मारा और इस बारे में सबको बता दिया. मैंने उससे कहा कि यह मुझे पसंद नहीं है, लेकिन उन्होंने मेरे इंकार को बहुत बुरी तरह से लिया और मुझे अपमानित करने लगे. मेजर कहता था कि इस तरह का हरासमेंट पूरी बटालियन के सामने होगा.’

अघनीम ने कहा कि यह उत्पीड़न सबके सामने हुआ, लेकिन मेजर के अधीनस्थों ने ऐसा दिखावा किया कि उन्होंने कुछ नहीं देखा. वहीं, हायर रैंक वालों ने दूसरी तरफ मुंह फेर लिया. दरअसल, एक ही बटालियन में 30 अन्य फीमेल सोल्जर्स और कॉन्ट्रेक्टर्स शामिल हैं, लेकिन कोई भी अपने करियर और सैलरी को लेकर मेजर के खिलाफ बोलकर जोखिम नहीं लेना चाहता है.

अघनीम को 3 मई को सेना से बर्खास्त कर दिया गया था, जबकि उसका तीन साल का कॉन्ट्रेक्ट था. यानी 8 महीने पहले उसे सेना से निकाल दिया गया. अघनीम अब अपनी मां और छोटे भाई-बहनों के सपोर्ट के लिए टैक्सी ड्राइवर के रूप में काम कर रही है. अपने पिता की मौत के बाद अघनीम परिवार में एकमात्र कमाने वाली सदस्य है. उनका कहा कि अब उसकी आर्मी में लौटने की कोई मंशा नहीं है, लेकिन वो मीडिया में अपनी आपबीती बताकर आर्मी बेस में क्या चल रहा है, यह जरूर सबको बताना चाहेगी.

बता दें, अघनीम ने आर्मी चीफ और पुलिस को शिकायती पत्र दिया था, लेकिन 12 अगस्त को रक्षा मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा कि एक जांच के बाद निष्कर्ष निकला है कि पूर्व सैनिक के आरोप सही नहीं है. बयान में कहा गया, डिफेंस मिनिस्ट्री ने मामले की जांच के लिए एक स्पेशल कमिशन का गठन किया था, उसकी जांच में अघनीम के आरोपों के सपोर्ट में कोई सबूत नहीं मिला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here