खुद के बुने जाल में फंस गई ग्रेटा थनबर्ग, भारत के खिलाफ तैयार सीक्रेट डॉक्यूमेंट से हुआ सनसनीखेज खुलासा

0
112

एनवायरमेंट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग को लेकर एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है. दरअसल, किसान आंदोलन पर विदेशी हस्तियों के ट्वीट के बाद से दुनिया भर की निगाहें भारत पर टिकीं है. इसी बीच भारत में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर एनवायरमेंट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने खूब आलोचना थी. अब खबर है कि उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक सीक्रेट डॉक्यूमेंट शेयर किया था. जिसे अब डिलीट भी कर दिया गया.

दरअसल, 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर भड़कीं हिंसा और आने वाले वक्त में होने वाले विरोध और सड़क पर होने वाले प्रदर्शनों की डिटेल्स वाला एक सीक्रेट डॉक्यूमेंट शेयर कर दिया और इस डॉक्टयूमेंट में बताया गया कि कैसे किसान आंदोलन के समर्थन में सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाना हैं. ग्रेटा ने डॉक्यूमेंट से साथ बाकायदा टूलकिट भी बताया. उन्होंने लिखा, ‘अगर आपको मदद चाहिए, तो ये रही टूलकिट.’ तीन फरवरी को ये ट्वीट किया गया था, जिसका स्क्रीनशॉट काफी वायरल हो रहा है. ट्वीट के स्क्रीनशॉट के साथ ही इसमें अटैच डॉक्यूमेंट के स्क्रीनशॉट भी सोशल मीडिया पर काफी शेयर किए जा रहे हैं. ग्रेटा भी जमकर ट्रोल हो रही हैं.



भारत की सत्ताधारी पार्टी को बताया फासीवादी पार्टी

ग्रेटा थनबर्ग ने भारत की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी को फासीवादी पार्टी तक कहा था. जिसके बाद से इस बात के कयास लगाए जाने लगे कि कहीं ये भी तो किसी तरह के प्रोपेगेंडा का हिस्सा तो नहीं. ‘सीक्रेट डॉक्यूमेंट’ में पांच बातें लिखी गईं हैं. जिनमें कहा गया है कि ऑन ग्राउंड प्रदर्शन में हिस्सा लेने पहुंचें. किसानों के विरोध प्रदर्शन के साथ एकजुटता दिखाने वाली तस्वीरों को ईमेल करें और इन्हें 25 जनवरी तक भेजें.


भारत के लोकतंत्र को बदनाम करने की रची गई साजिश

भारत के लोकतंत्र को बदनाम करने के लिए इस कैंपेन में केवल इतना ही नहीं लिखा. बल्कि इसमें आगे लिखा है कि किसान आंदोलन को लेकर डिजिटल स्ट्राइक करनी है. इसके लिए #AskIndiaWhy के साथ तस्वीर और वीडियो 26 जनवरी या फिर इससे पहले ट्विटर पर पोस्ट करनी होंगी. 4 से 5 फरवरी को ट्विटर पर तूफान लेकर लाना है, यानी किसान आंदोलन से जुड़ी सभी चीजों को ट्रेंड करवाना है. 6 फरवरी को कैंपेन का आखिरी दिन बताया गया है. इसमें भारत सरकार पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ाने के तरीके भी बताए गए हैं.


इंटरनेशनल सेलिब्रिटीज ने किए ट्वीट

भारतीय उद्योगपतियों के खिलाफ बोलने और ऑनलाइन पिटिशन साइन कराने की बात भी इसमें कही गई है. इस फाइल की भाषा को लेकर कई सवाल उठाए जा रहे हैं और हर कोई इसे भारत के खिलाफ चले अंतरराष्ट्रीय कैंपेन का एक्सपोज होना बता रहा है. इससे पहले विदेश मंत्रालय ने भी एक बयान जारी कर कहा था कि विदेशी हस्तियों को इस तरह के कैंपेन का हिस्सा नहीं बनना चाहिए. ग्रेटा थनबर्ग के अलावा रिहाना और मिया खलीफा जैसे विदेशी सेलिब्रिटीज ने किसान आंदोलन पर ट्वीट किए थे.

भारतीय दूतावासों के बाहर प्रदर्शन की प्लानिंग

भारत को बदनाम करने के लिए चलाए गए अंतरराष्ट्रीय अभियान की पोल खुलने के बाद इन लोगों की भी काफी आलोचना की जा रही है. हैरानी इस बात की है कि इससे भारत में दंगे जैसी स्थिति लाने की कोशिश की गई. सीक्रेट डॉक्यूमेंट में ये तक लिखा है कि विदेशों में भारतीय दूतावासों के पास कब और कहां प्रदर्शन करना है. मीडिया हाउसिस, सरकारी इमारतों और अडानी-अंबानी के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन करने की बात भी इसमें कही गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here