Cowin वैक्सीन को लेकर सरकार ने झाड़ा पल्ला, खराब मैनेजमेंट को ठहराया जिम्मेदार

0
20

कोरोना से बचाव के लिए लोग वैक्सीनेशन के प्रति जागरुकता दिखाते हुए इस ओर बढ़ रहे हैं। जिस तरह से पोलियों ड्राप के लिए मशहूर लाइन 2 बूंद जिंदगी की, ठीक वैसे ही वैक्सीन की 2 डोज कोरोना से बचाव संभव है। कोरोना से बचाव की बातों के बीच एक मुद्धा तेजी से तूल पकड़ रहा है। मामला है कोविन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिशट्रेशन को लेकर वाद-विवाद।

जब से 18-44 साल के लोगों के लिए कोविन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ है तब से विवादों की झड़ी लग गई है। कोविन पोर्टल पर विवाद इतना बढ़ गया है कि कई लोग इस कोविन पोर्टल की तुलना आईआरसीटीसी की वेबसाइट से कर रहे हैं। लोगों के अनुसार कोविन पोर्टल पर शुरुआत में लोगों को रजिस्ट्रेशन के दौरान ओटीपी ना मिलने की समस्या से दो चार होना पड़ा और अब लोगों को स्लॉट ही नहीं मिल रहा है। तत्काल टिकट की तरह लोगों को कोविन पोर्टल पर वैक्सीन के लिए स्लॉट बुक करना पड़ रहा है। किसी को स्लॉट मिल रहा है तो कोई खाली हाथ ही लौट रहा है।


सरकार ने ठहराया मैनेजमेंट को जिम्मेदार

कोविन पोर्टल पर हो रही दिक्कत जैसे- स्लॉट बुकिंग की समस्या हो या फिर OTP की, सरकार ने साफतौर पर इससे अपने आप को अलग करते हुए सारी गलती मैनेजमेंट की बताई है। सरकार का कहना है कि कोविन पोर्टल में कोई समस्या नहीं है, बल्कि वैक्सीन सेंटर के खराब मैनेजमेंट की वजह से लोगों को यह समस्या हो रही है। कोविन पोर्टल पर खाली स्लॉट की जानकारी वैक्सीन सेंटर के अपडेशन पर निर्भर है। कोविन पोर्टल पर खाली स्लॉट की जानकारी को अपडेट करना जिला टीकाकरण अधिकारी (DIO) का काम है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान में कहा कि केंद्र सरकार ने सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को ऑन-साइट पंजीकरण की तुलना में ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट वालों को वरीयता देने का निर्देश दिया है।

नई सुविधा फोन करके बुक करे सकते हैं स्लॉट

कोविन पोर्टल में हो रही समस्याओं के बीच एक नई सुविधा के तहत कोरोना वैक्सीन लगवाने के इच्छुक लोग फोन करके भी स्लॉट बुक कर सकेंगे। ये फैसला कोर्ट की फटकार के बाद सामने आया है। आपको कोविन पोर्टल के हेल्पलाइन नंबर पर फोन करके वैक्सीन के लिए स्लॉट बुक करवाना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here