नशे में धूत पंजाब के CM भगवंत मान को जर्मनी में फ्लाइट से नीचे उतारा!

0
126

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को जर्मनी के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर विमान से नीचे उतारने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. शिरोमणि अकाली दल के चीफ सुखबीर सिंह बादल ने ट्वीट कर मान और केजरीवाल को इस पर सफाई देने को कहा है. उनका कहना है कि इन रिपोर्ट्स ने पंजाबियों को दुनिया भर में शर्मिंदा किया है.

दरअसल, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान 17 सितंबर को जर्मनी से दिल्ली लौट रहे थे. ऐसा कहा जा रहा है कि इसी दौरान फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर उन्हें लुफ्थांसा एयरलाइंस के विमान से नीचे उतार दिया गया. क्योंकि भगवंत मान नशे में थे, इसलिए एयरलाइन ने ऐसा फैसला लिया.

खबरों की मानें, तो यह विमान फ्रैंकफर्ट से शनिवार दोपहर 1.40 बजे रवाना होने वाला था. यह दिल्ली में रात 12.55 बजे लैंड करता, लेकिन इस हंगामे के बाद विमान 4 घंटे की देरी से शाम 5.52 बजे उड़ान भर पाया और सोमवार सुबह 4.30 बजे दिल्ली में लैंड हुआ.

वहीं, विमान में बैठे यात्रियों के मुताबित, मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इतनी शराब पी रखी थी कि वो ठीक से चल नहीं पा रहे थे. उनकी पत्नी और सुरक्षाकर्मी उन्हें संभाल रहे थे. इस वजह से सुरक्षा का हवाला देते हुए भगवंत मान को नीचे उतार दिया गया. हालांकि, उनके स्टाफ ने कोशिश की कि उन्हें ना उतारा जाए, लेकिन फ्लाइट का स्टाफ कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था. इस घटना को लेकर अब सोशल मीडिया पर भगवंत मान की खूब आलोचना हो रही है.

इधर, आम आदमी पार्टी ‘आप’ के मीडिया कम्युनिकेशन के निदेशक चंदर सुता डोगरा इस पर मामले पर सफाई देते फिर रहे है, उन्होंने कहा मुख्यमंत्री की तबीयत ठीक नहीं थी. इसी वजह से 17 तारीख की बजाए वे 18 तारीख को दिल्ली रवाना हुए. उधर, ‘आप’ ने इस पूरे मामले को खारिज कर दिया है. मुख्यमंत्री कार्यालय के मीडिया प्रभारी नवनीत वाधवा ने कहा कि यह सब फालतू बातें हैं. मुख्यमंत्री के जर्मनी दौरे के कार्यक्रम के मुताबिक उन्हें 18 सितंबर तक जर्मनी में रहना था.

वहीं, सुखबीर सिंह बादल ने कहा- इस विमान के यात्रियों ने मीडिया को जो जानकारी दी है, वह परेशान करने वाली है. जानकारी के मुताबिक, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को लुफ्थांसा फ्लाइट से उतारा गया, क्योंकि वो नशे में थे. इस वजह से फ्लाइट 4 घंटे देरी से उड़ान भर पाई, उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा कि हैरानी की बात यह है कि पंजाब सरकार इन खबरों पर चुप है. मुख्यमंत्री भगवंत मान और दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस मुद्दे पर सफाई देनी चाहिए.

भारत सरकार को इस मामले में दखल देना चाहिए, क्योंकि इसमें पंजाबी और राष्ट्रीय गौरव शामिल है. अगर भगवंत मान को विमान से उतारा गया था, तो भारत सरकार को जर्मन सरकार से इस बारे में बात करनी चाहिए.

बता दें, भगवत मान 11 सितंबर को जर्मनी गए थे. जर्मनी में उन्होंने म्यूनिख, फ्रैंकफर्ट और बर्लिन का दौरा किया और पंजाब में निवेश की मांग की. वह दुनिया के प्रमुख व्यापार मेले, ड्रिंकटेक 2022 में भी शामिल हुए. उनके साथ उनकी पत्नी और सुरक्षाकर्मियों के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here