कानून के रखवाले बने सांसों के रखवाले: अस्पताल में कुछ घंटों की ही ऑक्सीजन बची थी, दिल्ली पुलिस ने की रक्षा

0
29
Oxygen Crisis

कोरोना मरीज तड़प-तड़प कर मर रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी लोगों को काल में दफना रही है। दिल्ली और एनसीआर के अस्पताल ऑक्सीजन संकट से जूझ रहे हैं। अस्पतालों में मौजूद डॉक्टर्स दिल्ली सरकार से गुहार लगा रहे हैं। दिल्ली सरकार रोजाना एक रिलीज जारी करती है और सिर्फ अस्पतालों में ऑक्सीजन की बची मात्रा का हिसाब-किताब के अलावा कुछ नहीं होता है, कोरोना संकट जस का तस बना हुआ है। इस महामारी के संकट की घड़ी में दिल्ली पुलिस लोगों के लिए मसीहा बन कर सामने आई है। आपको हता दें की दिल्ली पुलिस के सिपाही मरीजों तक ऑक्सीजन पहुंचाने में अपनी पूरी ताकत लगा रहे हैं। दिल्ली के गोयल अस्पताल और खंडेलवाल अस्पताल में 24 अप्रैल को ऑक्सीजन पहुंचाने की कहानी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। फिल्मों में तो इस काम के पैसे दिए जाते हैं, लेकिन ये सिपाही बिना किसी लालच के लोगों की सेवा में दिन-रात एक कर रहे हैं।

दिल्ली पुलिस ने गोयल अस्पताल तक पहुंचाई ऑक्सीजन

सोशल मीडिया में इन दिनों दिल्ली पुलिस की तस्वीर जोरों से वायरल हो रही है जिसमें पुलिस अस्पताल में ऑक्सीजन पहुंचा रही है। अस्पताल में काम कर रहे स्टाफ के अनुसार ‘हास्पिटल में ऑक्सीजन खत्म होने के कगार पर थी। बस कुछ ही घंटे बचे थे। मेडिकल ऑक्सीजन लेने गाड़ी बदरपुर के एक ऑक्सीजन प्लांट में गई थी, लेकिन लंबी कतार की वजह से ऑक्सीजन मिल नहीं रही थी। सहायता के लिए दिल्ली सरकार को भी फोन किया गया पर कोई जवाब नहीं मिला, फिर सोच विचारकर दिल्ली पुलिस की शरण ली महज डेढ़ घंटे के भीतर शाम करीब 7.30 बजे ऑक्सीजन के 58 सिलेंडर हमारे अस्पताल के गेट पर थे।’ स्टाफ के अनुसार अगर 30 मिनट तक ऑक्सीजन नहीं पहुंचती तो 60 मरीजों की जान खतरे में आ सकती थी।

Oxygen Crisis

दिल्ली पुलिस के मुताबिक ऑक्सीजन सप्लाई की गाड़ी बदरपुर बॉर्डर में अटकी थी। तकरीबन 35-40 मिनट में हमारी टीम वहां पहुंची। स्थानीय पुलिस पहले से तैनात थी। हमने फटाफट ऑक्सीजन मेडिकल स्टाफ को दिलवाई। ग्रीन कॉरिडोर बनाया, बाइकर पुलिस के संरक्षण में ऑक्सीजन सिलेंडरों से भरी गाड़ी को अस्पताल तक पहुंचाया। अस्पताल से फोन आने और ऑक्सीजन पहुंचाने में हमें 2 घंटे का वक्त लगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here