दिल्लीः शराब नीति और बस खरीद घोटाले के बाद अब गेस्ट टीचर की हेराफेरी!, LG ने जांच के दिए आदेश

0
36

दिल्ली की शराब नीति और बस खरीद घोटाले के बाद अब सरकारी स्कूलों में गेस्ट टीचरों की हेराफेरी का मामला सामने आया है. यहां के करीब हजार से ज्यादा सरकारी स्कूलों में कार्यरत 20 हजार से ज्यादा गेस्ट टीचरों की नियुक्ती, हाजरी और सैलरी सवालों के घेरे में है. इसके जांच के लिए दिल्ली के उप-राज्यपाल ने आदेश दिए हैं. LG हाउस से इस संबंध में एक नोटिस भी जारी किया गया है.

दरअसल, कुछ दिनों पहले गेस्ट टीचर के नाम पर लाखों रुपए का घोटाला सामने आया था. इस घोटाले में एक सरकारी स्कूल के चार कार्यरत और सेवानिवृत्त उप प्रधानाचार्यों के नाम सामने आए थे. घोटाले में सामने आया था कि स्कूल में जिन गेस्ट टीचर के नाम पर लाखों रुपए का घोटाला किया गया. इस नाम से कोई भी गेस्ट टीचर स्कूल में कार्यरत नहीं है. वहीं इस गेस्ट टीचर घोटाले की जांच के लिए ACB को दिल्ली के उप-राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने निर्देश जारी कर दिए थे.

यहां पर गौर करने वाली बात यह है कि इस घोटाले के बाद यह माना जा रहा है कि कहीं दिल्ली के अन्य स्कूलों में भी इसी तरह का घोटाला तो नहीं चल रहा है. यही वजह है कि सभी सरकारी स्कूलों में कार्यरत गेस्ट टीचर की नियुक्ति, हाजरी और सैलरी से संबंधित जांच करने के निर्देश LG हाउस की ओर से जारी किया गया है.

LG हाउस के द्वारा जारी नोटिस में कहा गया है कि उप-राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना के संज्ञान में आया है कि स्कूलों में गेस्ट टीचर के नाम पर इस तरह के घोटाले स्कूल के प्रिंसिपल, वाइस प्रिंसिपल, शिक्षकों और अकाउंट से जुड़े लोगों के मिलीभगत के बिना नहीं हो सकते है और यह विभिन्न स्तरों पर अधिकारियों द्वारा पर्याप्त निगरानी और पर्यवेक्षण की कमी को दर्शाते हैं. दिल्ली के उप-राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना की सचिव अंकिता मिश्रा बुंदेला ने दिल्ली के मुख्य सचिव को कहा कि वह शिक्षा निदेशक को सलाह दें कि वह तत्काल प्रभाव से शिक्षा निदेशालय के अधीन सभी सरकारी स्कूलों में कार्यरत गेस्ट टीचरों की नियुक्ति, हाजरी और सैलरी को वेरिफाई करें और एक पूरी रिपोर्ट बनाकर 30 दिनों के भीतर जमा कराए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here