1 जुलाई से बैंकिंग से जुड़े नियमों में होने वाले हैं बदलाव, पैसा निकालना हो जाएगा महंगा

0
85

एक जुलाई से देशभर के बैंकिंग में कई बदलाव होने वाले हैं। इन बदलावों का सीधा असर आपकी पॉकेट पर पड़ सकता है। इसलिए जरूरी है कि नियमों की जानकारी आपको पहले से ही पता हो। बता दें कि 1 जुलाई से IDBI और SBI बैंक से पैसा निकालना महंगा होने वाला है। जानिए 6 बदलावो के बारे में।

SBI के नियमों में होगा बदलाव

बैंक के अनुसार 1 जुलाई से ATM से पैसा निकालना और चेकबुक के इस्तेमाल करने पर ग्राहकों को एक्सट्रा चार्ज देना होगा। बेसिक सेविंग अकाउंट डिपॉजिट अकाउंट पर ये सभी नए नियम लागू होंगे। जानकारी के लिए बता दें कि SBI के ATM या बैंक ब्रांच से 4 बार पैसा निकालना फ्री होगा। 4 बार से ज्यादा ट्रांजेक्शन होने पर 15 रुपए और GST का चार्ज लगेगा। इसके अलावा अब चेक बुक लेने के लिए भी आपको ज्यादा चार्ज देना होगा।

IDBI बैंक भी करेगा नियमों में बदवाल

IDBI बैंक 1 जुलाई से चेक लीफ चार्ज, सेविंग अकाउंट चार्ज और लॉकर चार्ज में बदलाव करने जा रहा है। बैंक ने नकद जमा (होम और नॉन-होम) के लिए मुफ्त सुविधा को सेमी अर्बन और रूरल ब्रांचों में मौजूदा 7 और 10 से घटाकर क्रमश: 5-5 बार कर दिया है। इसके अलावा ग्राहकों को अब हर साल सिर्फ 20 पन्ने की चेक बुक ही निशुल्क मिलेगी। उसके बाद प्रत्येक चेक के लिए ग्राहकों को 5 रुपए का भुगतान करना होगा। इसके अलावा सीनियर सिटीजंस को लॉकर पर मिलने वाला डिस्काउंट तभी मिलेगा जब उनका मंथली एवरेज बैलेंस 10 हजार होगा।

सिंडिकेट बैंक के IFSC कोड में होगा बदलाव

सिंडिकेट बैंक का केनरा बैंक में विलय हो चुका है इसलिए अब 1 जुलाई से बैंक के IFSC कोड बदलने जा रहा है। ऐसे में सिंडिकेट बैंक की ब्रांच मौजूदा IFSC कोड 30 जून 2021 तक ही काम करेंगे। 1 जुलाई 2021 से बैंक के नए IFSC कोड लागू हो जाएंगे।

ज्वेलरी के हर नग की यूनिक पहचान होगी

आधार की तर्ज पर ज्वेलरी के हर नग की यूनिक पहचान होगी अनिवार्य
गहने चोरी हो जाएं या कहीं गुम जाएं, अगर यह गलाए नहीं गए हैं तो इनके वास्तविक मालिक की पहचान आसानी से हो सकेगी।

LPG सिलेंडर की कीमतों में हो सकता है बदलाव

हर महीने की पहली तारीख को केंद्र सरकार LPG सिलेंडर की कीमत की घोषणा करती है। पिछले महीने सरकार ने 19 किलो वाले कमर्शियल सिलेंडर के दाम में 122 रुपए कटौती की गई थी।

छोटी बचत स्कीम की ब्याज दरों में हो सकती है कमी

सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही के लिए भी मार्च में इनकी ब्याज दरों में कटौती की थी। लेकिन बाद में इस कटौती को वापस ले लिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here