मुंबई की मीठी नदी पर बीएमसी ने खर्च किए करोड़ो रुपए, फिर भी तैर रही प्लास्टिक?

0
26

बीजेपी नेता प्रीति गांधी ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर किया है जिसमें दो फोटो हैं। एक फोटो में साफ-सुथरी नदी के किनारे एक खूबसूरत बगीचा दिख रहा है और दूसरी फोटो में हर तरफ प्लास्टिक पड़ी हुई दिख रही है। ये फोटो पोस्ट कर बीजेपी नेता का दावा है कि पहली फोटो गुजरात के अहमदाबाद की साबरमती नदी की है, जिसकी देख-रेख पर राज्य सरकार ने 1400 करोड़ रुपए खर्च किए हैं और दूसरी फोटो महाराष्ट्र के मुंबई की मीठी नदी की है। इस पर मुंबई महानगरीय क्षेत्र विकास प्राधिकरण और बीएमसी ने 1000 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च किया है। इसके बाद वायरल पोस्ट की सच्चाई पता की गई।

ये है सच्चाई

वायरल पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए रिवर्स सर्च किया गया तो पहली फोटो इकोनॉमिक टाइम्स की वेबसाइट पर मिली। ये फोटो गुजरात के अहमदाबाद की साबरमती नदी की ही है। नदी के किनारे दिख रहे खूबसूरत बगीचे को साबरमती रिवरफ्रंट परियोजना के अंतर्गत गुजरात में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया है। ये फोटो वेबसाइट पर खबर के साथ 18 नवंबर, 2013 को पब्लिश हुई थी।

दूसरी फोटो को भी इसी तरह सर्च किया गया तो ये प्लास्टिक बैंक और लॉनली रोड नाम की वेबसाइट पर मिली। इन वेबसाइट के अनुसार ये फोटो फिलिपींस की है।

बता दें कि फिलीपींस दुनिया के सबसे बड़े प्लास्टिक प्रदूषक देशों में है। अब फिलिपींस प्लास्टिक के स्क्रैप से बनी सड़कों का निर्माण कर इस समस्या का समाधान तलाश रहा है।

तो फोटोज़ के सर्च रिजल्ट से साफ है कि सोशल मीडिया पर बीजेपी नेता का पोस्ट किया जा रहा दावा अधूरा सच है। पोस्ट में लगी पहली फोटो गुजरात के साबरमती नदी की है और दूसरी फोटो मुंबई की मिठी नदी की नहीं फिलिपींस के प्लास्टिक प्रदूषक की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here