अलीगढ़ः मुस्लिम महिला ने घर में स्थापित की गणेश जी की मूर्ति, कट्टरपंथियों ने जारी किया फतवा

0
49

इस वक्त पूरे देश में गणेश जन्मोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है. इसी बीच उत्तर प्रदेश में गणेश मूर्ति को लेकर विवाद खड़ा हो गया है, क्योंकि यहां पर एक मुस्लिम महिला ने अपने घर पर गणेश जी की मूर्ति स्थापित की है. दरअसल, उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में एक मुस्लिम महिला ने अपने घर पर गणेश जी की मूर्ति क्या स्थापित कर दी कि कट्टनपंथियों के निशाने पर आई गई. महिला और उसके परिवार को अब फतवा जारी किए जाने की धमकी दी जा रही है.

मिली जानकारी के मुताबिक अलीगढ़ की रहने वाली रूबी आसिफ खान के परिवार के खिलाफ फतवा जारी करने की धमकी दी गई है. रूबी ने अपने घर में भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित की है. इसे लेकर वो कट्टरपंथियों के निशाने पर आ गई हैं. फतवा मोबाइल सर्विस देवबंद के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारुकी की ओर से इसे लेकर एक वीडियो जारी किया है. इस वीडियो में मुफ्ती अरशद फारुकी ने गणेश को हिंदुओं का बड़ा देवता बताया है.

मुफ्ती अरशद फारुकी ने कहा है कि हिंदुओं के यहां गणेश एक बड़े देवता हैं जो अक्ल और इल्म का खजाना माने जाते हैं. शादी विवाह की रुकावट दूर करने के लिए उनकी पूजा होती है. जहां तक इस्लाम का मसला है तो इस्लाम सिर्फ अल्लाह की पूजा, अल्लाह की परस्ती सिखाता है, उन्होंने आगे कहा कि जो इसका पाबंद है वह मुस्लिम है. यह दो टूक फैसला और दो टूक बात है.

मुफ्ती अरशद फारुकी ने वीडियो में ये भी कहा है कि अगर कोई इसकी खिलाफी करता है तो वह अपने मजहब की खिलाफी करता है. वहीं हुकुम जारी होगा जो हुकुम इस्लाम और मजहब की खिलाफी करने पर होता है. यह दो बातें बिल्कुल साफ हैं.

इधर, अपने खिलाफ फतवा जारी किए जाने की धमकी पर रूबी आसिफ खान का कहना है कि मैं हिंदू देवी-देवताओं की पूजा हमेशा से करती आई हूं. घर में सात दिन के लिए गणेश जी को स्थापित किया है, उन्होंने पलटवार करते हुए कहा कि जो भेदभाव करना चाहते हैं, वे खुद मुसलमान नहीं है. रूबी ने आगे कहा कि जो इस तरह की बातें करते हैं, वे जिहादी लोग हैं. फतवा जारी करते हैं. यह जानते नहीं हैं कि सही क्या है और गलत क्या है, इन्हें बस बोलने से मतलब है, उन्होंने यह भी कहा कि यह सच्चे मुसलमान होते तो यह इस तरह की बात नहीं करते. मैं शुरू से पूजा करती आ रही हूं और किसी भी जाति-धर्म में भेद नहीं मानती. रूबी ने कहा कि इसी तरीके से सारे त्यौहार मनाती आई हूं. ये लोग पहले भी मेरे खिलाफ फतवा जारी कर चुके हैं. इन लोगों ने इस्लाम से खारिज करने के पोस्टर भी लगवाए, लेकिन मैंने कभी हार नहीं मानी. रूबी ने कहा कि मैं चाहती हूं कि सभी में एकता रहे. हिंदुओं-मुसलमान में कोई भेदभाव ना रहे.

बता दें, रूबी आसिफ खान भाजपा की महिला मोर्चा की मंडल उपाध्यक्ष है. वो पहले भी अपने घर में भगवान श्रीराम और अन्य देवी देवताओं की मूर्ति रख चुकी हैं और उनकी पूजा करती हैं. जिसके चलते उनके खिलाफ पहले भी फतवे जारी हो चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here