नतीजे घोषित होने के बाद बंगाल में ये कैसी हिंसा! बीजेपी अध्यक्ष ने ममता पर साधा निशाना, बोले- 700 गांवों में हुई हिंसा

0
10
Bengal Election

पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की शानदार जीत के बाद से ही सियासी हिंसा शुरू हो गई है. लगातार बढ़ रही हिंसा को लेकर केंद्र सरकार ने रिपोर्ट मांगी है. इसी बीच बीजेपी अध्यक्ष और बंगाल चुनाव के प्रभारी कैलाश विजयवर्गी ने टीएमसी पर निशाना साधा है, उन्होंने कहा कि टीएमसी की जीत के बाद 700 गांवों में हिंसा हुई है. महिलाओं के साथ रेप हुआ है और उनके कार्यकर्ताओं की हत्याएं हुई हैं. विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि बीरभूमि में हमारी दो महिला कार्यकर्ताओं के साथ उठा ले गए और उनके साथ रेप किया गया. एक विशेष वर्ग के लोग 700 गांवों में लूट-पाट कर रहे हैं. पूरे राज्य में अराजकता मचा दी गई है.

बंगाल बीजेपी के प्रभारी विजयवर्गीय ने कहा, ‘हमने बीजेपी का एक कंट्रोल रूम बनाया है और लोगों से कहा जा रहा है कि जहां-जहां हमले हो रहे हैं, वे लोग कोलकाता आ जाएं. हम उनके लिए रुकने की जगह बना रहे हैं. इतनी अराजकता मैंने कभी भी नहीं देखी. जब भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हुआ था, तब ऐसी स्थिति रही होगी, जो राज्य में आज है. एक विशेष के लोग ही यह सब काम कर रहे हैं. पुलिस फोन नहीं उठा रही है.’

इसके साथ ही कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि चुन-चुनकर बीजेपी कार्यकर्ताओं को पीटा जा रहा है, हत्या की जा रही है. बीजेपी कार्यकर्ताओं के घर तोड़े जा रहे हैं और दफ्तरों पर हमले हो रहे हैं. एक मीडिया संस्थान को दिए इंटरव्यू में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि हमने गृह मंत्रालय और गृह मंत्री जी को इसकी जानकारी दी है. मंत्रालय ने भी राज्य सरकार के गृह सचिव से पूछताछ की है कि चुनाव के बाद कितनी हिंसा की घटनाएं हुई हैं, उसकी जानकारी दें.

इतना ही नहीं, बीजेपी नेता ने कहा कि ममता बनर्जी बेशर्मी से कह रही हैं कि हमारे कार्यकर्ताओं को मारा जा रहा है, लेकिन आज की स्थिति में कौन सोच सकता है कि टीएमसी कार्यकर्ताओं पर हमले हों. सच्चाई यह है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं को मारा जा रहा है. कई कार्यकर्ता घर छोड़कर चले गए हैं. बहुत ही खतरनाक स्थिति हो गई है, उन्होंने कहा कि संभव है कि कल राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बंगाल का दौरा कर सकते हैं. मैंने अपने जीवन में ऐसा राजनीतिक दंगा कभी भी नहीं देखा है, बस पाकिस्तान का विभाजन वाली बात सुनी थी. प्रशासन आंख बंद करके बैठा हुआ है.

कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उन्होंने कहा कि दो सौ फीसदी ममता बनर्जी के इशारे पर यह सब हो रहा है. एक आईपीएस अधिकारी ने मुझे बताया है कि हमसे कहा गया है कि कोई फोन मत उठाइए, जो हो रहा है, होते रहने दीजिए. ममता और उनके नेताओं के इशारे पर ये सब घटनाएं हो रही हैं. माइक वाली गाड़ी से जाकर हमला हो रहा है. दुकानें लूट ली गईं और घरों से एसी तक लूट लिया गया. उन्होंने आगे कहा, ‘कल हम मैदान में उतरेंगे और इस प्रकार की हिंसा होने नहीं देंगे. मेरी गृह मंत्री अमित शाह जी से भी कई बार बातचीत हुई है.’

वहीं, केंद्र सरकार ने राज्य में चुनाव परिणाम के बाद विपक्षी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाकर की गई हिंसा को लेकर सोमवार को पश्चिम बंगाल सरकार से रिपोर्ट तलब की. पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद कथित तौर पर भाजपा समेत विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया गया, जहां सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. एक प्रवक्ता ने ट्वीट किया, ‘गृह मंत्रालय ने राज्य में चुनाव परिणाम के बाद विपक्षी राजनीतिक कार्यकर्ताओं को निशाना बनाकर की गई हिंसा को लेकर पश्चिम बंगाल सरकार से रिपोर्ट मांगी है.’ भाजपा ने आरोप लगाया है कि हुगली जिले के पार्टी कार्यालय में आगजनी की गई और राज्य में शुभेंदु अधिकारी समेत उसके कई नेताओं को तृणमूल कांग्रेस समर्थकों द्वारा निशाना बनाया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here