कानून मंत्री के बाद चावल गबन में घिरे नीतीश के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह, बोले- इस्तीफा नहीं देंगे

0
70

बिहार राज्य में नीतीश के नेतृत्व में महागठबंधन की नई सरकार बनते ही विवादों में घिर गई है. विपक्षी दल भाजपा लगातार नीतीश पर सवाल उठा रही है. नीतीश ने अपने कैबिनेट में दागी मंत्रियों को जगह क्यों दी. नवनिर्वाचित कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह पर घिरी नीतीश सरकार के एक और मंत्री विवादों में आ गए है. नवनिर्वाचित कृषि मंत्री सुधाकर सिंह पर करोड़ों रुपए का चावल घोटाले का आरोप है. यह आरोप साल 2013 में नीतीश कुमार और NDA के नेतृत्व वाली सरकार के दौरान लगा था. हालांकि, सुधाकर सिंह ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को झूठा बताया है. इसी बीच उन्होंने कहा वे मंत्री पद से इस्तीफा नहीं देंगे.

बता दें, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता और प्रदेशाध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे सुधाकर सिंह पर साल 2013 में नीतीश कुमार के शासनकाल में करोड़ों रुपए का चावल घोटाला का आरोप लगा था. उनके खिलाफ रामगढ़ थाने में मुकदमा दर्ज है. आरोप के मुताबिक सुधाकर सिंह की राइस मील ने सरकार से चावल प्रोसेसिंग का एग्रीमेंट किया था, जो सरकार की ओर से चावल आया, उसका उन्होंने घोटाला कर लिया. इस घोटाले में 80 से ज्यादा FIR दर्ज हुई, जिसमें कई आरोपी बनाए गए थे.

हालांकि, बक्सर की रामगढ़ सीट से विधायक सुधाकर सिंह ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को गलत बताया है, उन्होंने गुरुवार को कहा, ये आरोप सही नहीं है. इस पर फैसला कोर्ट करेगा. अब तक की सुनवाई हमारे पक्ष में है. हाईकोर्ट ने कहा इस मामले में सरकार को फटकार लगाई थी. अदालत ने कहा था कि राइस मीलों को जो चावल प्रोसेस करने के लिए मिला था, उसे वापस लाना सरकार की ड्यूटी है. यह सरकार की लापरवाही है कि उसने चावल वापस नहीं लिए.

कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने कहा, जिस समय ये केस दर्ज हुआ उस समय बिहार में भाजपा के गठबंधन वाली सरकार थी. भाजपा के लोग कागज देखे बिना हल्ला कर रहे हैं. ये केस भाजपा के समर्थन वाली सरकार के काल के हैं, उनको जितनी कार्रवाई करनी थी, वे कर चुके हैं.

बता दें, नीतीश की नई नवेली महागठबंधन की सरकार बनते ही विवादों में घिर गई है. इससे पहले कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह अपरहण के मामले में घेरे हैं. आरोप है कि अपहरण के केस में उन्हें 16 अगस्त को कोर्ट में सरेंडर करना था, लेकिन वे अदालत जाने के बजाए मंत्री पद की शपथ ले रहे थे, उनके खिलाफ वारंट भी जारी हुआ था, हालांकि, उनका कहना है कि कोर्ट ने इस मामले में उन्‍हें बीते 12 अगस्‍त को ही एक सितंबर तक राहत दे दी है और अब कृषि मंत्री सुधाकर सिंह पर चावल घोटाले को लेकर विपक्ष नीतीश सरकार पर हमलावर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here