‘ताऊ ते’ के बाद ‘यास’ तूफान का खतरा, ओड़िशा और बं.ल में हाईअलर्ट, चक्रवाती तूफान में तब्दील होता सकता है ‘यास’

0
19
Yas storm

‘ताऊ ते’ चक्रवात तूफान के बाद अब बं.ल की खाड़ी में चक्रवात यास तक खतरा मंडराने रहा है. इसको लेकर सरकार और सेना पूरी तरह से तैयार है. वहीं, चक्रवात ‘यास’ को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ओड़िशा, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल के साथ बैठक करेंगे और तैयारियों की समीक्षा करेंगे.

Yas storm

बता दें, भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि अंडमान के उत्तरी भाग और पूर्वी-मध्य बं.ल की खाड़ी पर डीप डिप्रेशन अगले 24 घंटों के दौरान बहुत तीव्र चक्रवाती तूफान में बदल सकता है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, यह तूफान 25 या 26 मई को पश्चिम बं.ल और ओडिशा के तटों से टकराए. इसका असर इन दो राज्यों के अलावा झारखंड और बिहार में भी दिखाई दे सकता है. इनके अलावा यूपी, दिल्ली, हरियाणा, मध्य प्रदेश, चंडीगढ़ और राजस्थान आदि में मौसम बदलेगा. इन राज्यों में हवाओं की गति 25 से 30 किमी/घंटा रहने की आशंका है. ‘यास’ तूफान उत्तर और उत्तर-पश्चिम की तरफ तेजी बढ़ रहा है. अगले 24 घंटे में यह भयंकर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है.

Yas storm

जानिए ‘यास’ तूफान से निपटने की क्या हैं तैयारियां

‘यास’ से निपटने कोलकाता में 74 पंपिंग स्टेशनों की जांच की गई है. ओड़िशा के 8 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया गया है. तूफान से निपटने एनडीआरएफ के अलावा एयरफोर्स भी तैयार है. नौसेना ने भी मोर्चा संभाल रखा है. इस बीच दक्षिण रेलवे के बाद पूर्वी रेलवे ने भी कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है.

इसका असर 28 या 29 मई तक देखने को मिल सकता है. तूफान का सामना करने ओडिशा और पश्चिम बंगाल के अलावा इन राज्यों से सटे अन्य इलाकों को भी अलर्ट जारी किया गया है. कई ट्रेनें रद्द कर दी गई है.

Yas storm
वहीं, एनडीआरएफ के 950 से अधिक जांबाज और 26 हेलिकॉप्टर को स्टैंडबाय पर रखा गया है. इससे पहले रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तूफान के मद्देनजर एक समीक्षा बैठक की थी.

Yas storm

पश्चिम बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ ने तूफान से निपटने की तैयारियों के बीच नेवी के अफसरों के साथ मीटिंग की.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्ड आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए चक्रवात से प्रभावित हो सकने वाले राज्यों के सांसदों और राज्य पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे. गृह मंत्री अमित शाह भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ओड़िशा, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल के साथ बैठक करेंगे और चक्रवात यास को लेकर तैयारियों की समीक्षा करेंगे.

बांग्लादेश में सरकार ने 75,000 से ज्यादा स्वयंसेवकों को तैयार किया है. बांग्लादेश की रेड क्रिसेंट सोसाइटी के चक्रवात तैयारी कार्यक्रम (सीपीपी) के स्वयंसेवक तटीय क्षेत्रों के 13 जिलों के 41 उपनगरों में स्टैंडबाय पर हैं, ताकि एक कॉल पर उन्हें बुलाया जा सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here