शादी के बाद दो बहनों का वर्जिनिटी टेस्ट, एक पास तो दूसरी फेल, पतियों ने छोड़ा साथ, जाट पंचायत ने दिया तलाक का फैसला

0
28

शादी एक पवित्र रिश्ता होता है. अगर इस रिश्ते में विश्वास ना हो तो शादी टूट जाती है. आज के दौर में शादी टूटना आम सी बात हो चुकी है. ऐसा ही एक मामला महाराष्ट्र से सामने आया है, जहां पर दो बहनों की शादी होती है और शादी के कुछ दिन बाद पति उसको छोड़ देता है. शादी टूटने की वजह सुनकर आप लोग हैरान रहे जाएंगे. दरअसल, यहां पर दो बहनों का शादी के बाद जबरन वर्जिनिटी टेस्ट कराया गया. वर्जिनिटी टेस्ट के बाद एक बहन पास हो जाती है जबकि दूसरी बहन फेल हो जाती है. इतना ही नहीं वर्जिनिटी टेस्ट में फेल होने के बाद पति अपनी पत्नी को छोड़ देता है, तो वहीं जाट पंचायत उन्हें तलाक का फरमान सुना दिया. फिलहाल इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दोनों पतियों, सास और पंचायत के कुछ लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.

मामला महाराष्ट्र के कोल्हापुर का है जहां पर गुरुवार (8 अप्रैल) को एक एफआईआर दर्ज कराई गई थी. दोनों बहनों द्वारा दायर की गई शिकायत के मुताबिक, वे कोल्हापुर के कंजड़भाट समुदाय से आती हैं, उन्हें समुदाय से ही दो भाइयों से विवाह के प्रस्ताव मिले थे. जहां एक भाई सेना में कार्यरत है, वहीं दूसरे भाई की प्राइवेट नौकरी थी. शिकायत में कहा गया है कि दोनों बहनों की 27 नवंबर 2020 को शादी हुई. इसके बाद परंपरा के तहत उन्हें अलग-अलग बेडरूम ले जाया गया, जहां पतियों ने उनका वर्जिनिटी टेस्ट किया.

दोनों बहनों ने अपने बयान में कहा है कि उसके पति ने उस पर पहले दूसरे आदमियों के साथ संबंध रखने का आरोप लगाया, जबकि दूसरी बहन वर्जिनिटी टेस्ट में सफल बताया. 29 नवंबर को शिकायतकर्ताओं के पति और उनके ससुरालवालों ने घर बनवाने के नाम पर उनसे 10 लाख रुपए मांगे और धमकी दी कि वे दोनों बहनों के साथ कोई रिश्ता नहीं रखेंगे. महिलाओं की शिकायत है कि इस दौरान उनके पतियों और ससुरालवालों ने उनसे मारपीट भी की. बाद में उन्हें जबरदस्ती घर छोड़कर अपने मायके जाने पर मजबूर कर दिया.

बताया गया है कि इसके बाद दोनों बहनों की मां ने जाट पंचायत में शिकायत दर्ज कराई. यहां मामले को सुलझाने के एवज में उनसे 40 हजार रुपए भी ले लिए गए. फरवरी 2021 में जब एक मंदिर में जाट पंचायत बिठाई गई, तो यहां पंचायत के सदस्यों ने दोनों बहनों के खिलाफ फैसला सुनाते हुए शादी खत्म करने का फरमान दिया. शिकायत करने वाली महिला का आरोप है कि समुदाय ने उसका सामाजिक बहिष्कार भी कर दिया.

इस घटना के बाद बहनों की मां महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के पास मदद के लिए पहुंचीं, जहां लोगों ने दोनों बहनों को पुलिस के पास पहुंचाने में मदद की और शिकायत दर्ज कराई. फिलहाल इस मामले में जांच की जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here