बिहार के बाद अब यूपी की गंगा में तैरती मिलीं दर्जनों लाशें, दोनों राज्यों के बीच शवों क्या कनेक्शन!

0
23
Ganges

एक तरफ हिंदुस्तान कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहा है, कोरोना संमक्रण के बढ़ते आंकड़े को लेकर हर कोई परेशान हैं, तो वहीं अब इस महामारी के बीच गंगा-युमना नदी में कई जगहों पर लाशें मिलने का सिलसिला शुरू हो गया है. गंगा-यमुना नदी में लाशें मिलने से लोगों के बीच डर का माहौल है और महामारी फैलने की आशंका है. मामूल हो कि बिहार के बाद अब यूपी में सैकड़ों की संख्या में लाशें मिलने से हड़कंप मच गया है.

Ganges
दरअसल, सोमवार को बिहार के बक्सर जिले के गंगा नदी में दर्जनों की संख्या में शव तैरते हुए मिले, जिससे शासन-प्रशासन के होश उड़ गए. इसी बीच बिहार की सियासत भी गरमा गई और आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गई. वहीं, अब यूपी के गाजीपुर जिले के गंगा किनारे लाशों का ढेर मिला है. हैरानी करने वाली बात यहां पर यह है कि यह इलाका बिहार के बक्सर से महज 55 किलोमीटर की दूरी पर है. अब सवाल यह है कि बिहार के बक्सर और यूपी के गाजीपुर में मिले इन लाशों का क्या कनेक्शन है?

Ganges
हालांकि बिहार के बक्सर में गंगा नदी में मिलीं लाशों की संख्या अभी साफ नहीं हो पाई है, लेकिन इसी बीच यह जानकारी आ रही है कि अबतक नदी से 71 लाशों को बरामद किया जा चुका है. वहीं, अब गाजीपुर के गहमर गांव में लाशें मिलने से कई सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि गाजीपुर से बिहार की तरफ बहने वाली गंगा नदी गहमर गांव से होकर गुजरती है. इसके बाद बिहार का चौसा क्षेत्र लगता है, जहां के महादेव घाट पर सोमवार को शव मिला था. ऐसे में बिहार मिली लाशें कहीं यूपी से बहकर तो नहीं आई अगर ऐसा है तो यह किसने कहने पर नदी में लाशों को फेंकने का खेल चल रहा है.

Ganges
उधर, गाजीपुर के गहमर पुलिस स्टेशन के एसएचओ ए.के. पांडे ने बताया कि शव गंगा नदी के किनारे लाशों का ढेर मिला है. शुरुआती जांच से पता चलता है कि शव 18 से 20 दिन पुराने हो सकते हैं. नदी से 23 शव बरामद किए गए और कुछ शवों का आंशिक रूप से अंतिम संस्कार किया गया और फिर नदी में फेंक दिया गया.

Ganges
वहीं, जिलाधिकारी ने मौके का जायजा लिया और शवों का निस्तारण का आदेश दिया. पांडे ने कहा कि इस घटना के बाद, उन्होंने नदी के किनारों पर नावों के माध्यम से गश्त तेज कर दी है. गंगा नदी के किनारे स्थित क्षेत्रों में चौकीदारों को तैनात किया है ताकि गलत कामों पर नजर रख सकें. उन्होंने कहा, “हमें कई व्यक्तियों द्वारा आंशिक रूप से शवों का अंतिम संस्कार करने और गंगा में फेंकने की शिकायत मिली है. जिलाधिकारी ने गंगा के दाह संस्कार घाटों पर चौकीदारों को तैनात किया है.


Ganges
बता दें, सोमवार को, बक्सर जिले में गंगा के किनारे लगभग 45 शव मिले थे. जिला प्रशासन ने दावा किया कि शव उत्तर प्रदेश के गाजीपुर, वाराणसी या प्रयागराज जिलों के हैं. बिहार प्रशासन का कहना था कि यह शव यूपी से तैरते हुए यहां आए हैं क्योंकि हमारे राज्य में शव को पानी में बहाने की परंपरा नहीं है.

उत्तर भारत के ग्रामीण इलाकों में भी कोरोना महामारी का संक्रमण फैल रहा है. ऐसे आशंका है कि गंगा नदी में मिलने वाले ये शव कोविड मरीजों के हो सकते हैं. शव मिलने से स्थानीय लोगों को डर है कि इससे पानी दूषित होगा और कोरोना संक्रमण फैलेगा. स्थानीय प्रशासन ने इस मामले के जांच की बात कही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here