नारदा केस: टीएमसी के 2 मंत्री समेत 4 नेता गिरफ्तार, ममता बनर्जी पहुंची सीबीआई दफ्तर

0
19
Mamata Banerjee

भले ही पश्चिम बंगाल की सत्ता पर एक बार फिर से ममता बनर्जी का कब्जा हो गया हो, मगर लगता नहीं है उनकी मुश्किलें आसान होने वाली है. दरअसल, पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार बनते ही सीबीआई ने नारदा स्टिंग टेप केस की जांच फिर से शुरू कर दी है. इस घोटाले में लिप्त कैबिनेट मंत्री फिरहाद हकीम, कैबिनेट मंत्री सुब्रत मुखर्जी, टीएमसी विधायक मदन मित्रा और पूर्व बीजेपी नेता सोवन चटर्जी को गिरफ्तार कर लिया है. इस बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी सीबीआई के ऑफिस पहुंच गई हैं. सीबीआई इन चारों से नारदा केस में पूछताछ करेगी.

Mamata Banerjee

सीबीआई पर बरसी ममता, बोलीं- मुझे भी कर लो अरेस्ट

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीबीआई के अफसरों से कहा कि अगर आप इन चार नेताओं को गिरफ्तार कर रहे हैं तो मुझे भी गिरफ्तार करना पड़ेगा, राज्य सरकार या कोर्ट के नोटिस के बिना इन चारों नेताओं को गिरफ्तार नहीं कर सकते हैं, अगर फिर भी गिरफ्तार करते हैं तो मुझे भी गिरफ्तार किया जाए.

इस बीच टीएमसी सांसद और वकील कल्याण बनर्जी भी सीबीआई दफ्तर पहुंच गए हैं, उन्होंने कहा कि हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे. वहीं, स्पीकर बिमान बनर्जी ने कहा कि अगर गिरफ्तारी की जाती है तो वह असंवैधानिक होगी, क्योंकि हाई कोर्ट के आदेश के अनुसार किसी विधायक की गिरफ्तार करने से पहले स्पीकर से इजाजत ली जाती है, लेकिन मुझसे कोई इजाजत नहीं ली गई.

टीएमसी नेताओं को लाया गया सीबीआई दफ्तर

सीबीआई की टीम सोमवार सुबह ही परिवहन मंत्री और कोलकाता नगर निगम के अध्यक्ष फिरहाद हकीम के घर पहुंची. थोड़ी देर की तलाशी के बाद फिरहाद हकीम को सीबीआई अपने साथ ले जाने लगी. इस दौरान फिरहाद हकीम ने कहा कि मुझे नारदा घोटाले में गिरफ्तार किया जा रहा है. फिरहाह के घर पर समर्थक पहुंच गए हैं और प्रदर्शन कर रहे हैं.

Mamata Banerjee

सीबीआई की टीम सुब्रत मुखर्जी और मदन मित्रा को भी लेकर सीबीआई दफ्तर पहुंची है. इसके अलावा पूर्व बीजेपी नेता सोवन चटर्जी के घर पर भी सीबीआई की टीम ने छापेमारी की. सोवन चटर्जी ने चुनाव से पहले टीएमसी छोड़कर बीजेपी ज्वॉइन किया था, लेकिन टिकट न मिलने के बाद उन्होंने बीजेपी भी छोड़ दी थी.

नेताओं से पूछताछ के बाद सीबीआई ने किया गिरफ्तार

सीबीआई के सूत्रों का कहना है कि इन चारों नेताओं को नारदा घोटाले में पूछताछ के लिए सीबीआई दफ्तर लाया गया है. इन चारों नेताओं से सवाल-जवाब किया जा रहा. इस पूछताछ के बाद इन चारों नेताओं को गिरफ्तार करके कोर्ट में पेश किया जाएगा. कोर्ट से सीबीआई इन चारों नेताओं की कस्टडी मांगेगी.

Mamata Banerjee

राज्यपाल ने मुकदमा चलाने की दी थी इजाजत

पिछले दिनों ही सीबीआई ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से नारद स्टिंग मामले में फिरहाद हकीम, सुब्रत मुखर्जी, मदन मित्रा और सोवन चटर्जी के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए अनुमति मांगी थी. ये सभी उस समय मंत्री थे, जब कथित नारदा स्टिंग टेप सामने आया था. चुनाव के तुरंत बाद राज्यपाल ने सीबीआई को इजाजत दे दी थी.

जानिए क्या है नारदा स्टिंग टेप केस

पश्चिम बंगाल में 2016 के विधानसभा चुनाव से पहले नारदा स्टिंग टेप सार्वजनिक किए गए थे. दावा किया गया था कि ये टेप साल 2014 में रिकॉर्ड किए गए थे और इसमें टीएमसी के मंत्री, सांसद और विधायक की तरह दिखने वाले व्यक्तियों को कथित रूप से एक काल्पनिक कंपनी के प्रतिनिधियों से कैश लेते दिखाया गया था.
यह स्टिंग ऑपरेशन कथित तौर पर नारदा न्यूज पोर्टल के मैथ्यू सैमुअल ने किया था. कलकत्ता हाई कोर्ट ने मार्च, 2017 में स्टिंग ऑपरेशन की सीबीआई जांच का आदेश दिया था. हालांकि, इस स्टिंग में सिर्फ इन चार नेताओं के नाम सामने नहीं आए थे, बल्कि कई उन नेताओं के भी नाम थे, जो अब बीजेपी में शामिल हो चुके हैं.

ये भी पढ़ें –नुसरत ने छोटे पर्दे से की थी शुरुआत , लगातार फ्लॉप फिल्मों के बाद भी नुसरत भरूचा ने नहीं मानी थी हार !

Download-Local Vocal Hindi News App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here