सदन में राष्ट्रपति का अभिभाषण,नहीं शामिल हुईं 19 पार्टियां,मोदी ने कहा- भारत ना रुका है ना ही रुकेगा, MSP डेढ़ गुना हुआ

0
283

राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ बजट सत्र की शुरुआत हो गई है. उन्होंने कहा, चुनौती कितनी भी बड़ी हो, भारत न रुका है और न ही रुकेगा. उन्होंने गांधी जी को याद करते हुए भाषण की शुरुआत की. कृषि कानूनों के विरोध में 19 पार्टियों ने अभिभाषण का बहिष्कार करने का फैसला किया है. आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेंगी. वहीं सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य डेढ़ गुना करने का ऐलान किया.

गणतंत्र दिवस पर हिंसा की निंदा

सरकार के दिये अभिभाषण को पढ़ते हुए राष्ट्रपति ने किसानों के जरिए 26 जनवरी को हुई हिंसा की निंदा की और कहा कि लोकतंत्र की गरिमा को बनाये रखना हर देशवासी की जिम्मेदारी है.

एकजुटता ही हर समस्या का हल

उन्होंने कहा कि भारत जब-जब एकजुट हुआ है, तब-तब उसने असंभव से लगने वाले लक्ष्यों को प्राप्त किया है। राष्ट्रप्रेम से ओतप्रोत कवि, असम केसरी, अंबिकागिरि रायचौधरी ने कहा था कि ओम तत्सत् भारत महत, एक चेतोनात, एक ध्यानोत,एक साधोनात, एक आवेगोत, एक होइ ज़ा, एक होइ ज़ा

इस बार का बजट भी मिनी बजट है-राष्ट्रपति

उन्होंने कहा, यह बजट का भी सत्र है. इतिहास में पहली बार हुआ कि 2020 में एक नहीं हमें, वित्त मंत्री जी को अलग-अलग पैकेज के रूप में चार पांच मिनी बजट देने पड़े. 2020 एक प्रकार से मिनी बजट का साल था. इसलिए यह बजट भी उन चार पांच बजट की ही श्रृंखला में ही देखा जाएगा. मुझे यह विश्वास है. मैं फिर एक बार आदरणीय राष्ट्रपति जी के मार्गदर्शन में उनके संदेश को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हूं.

भारत के उज्ज्वल भविष्य के लिए यह दशक महत्वपूर्ण

पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा, इस दशक का पहला सत्र प्रारंभ हो रहा है. भारत के उज्ज्वल भविष्य के लिए यह दशक महत्वपूर्ण है. इसीलिए शुरू से ही आजादी के दीवानों जो सपने देखे थे, उन सपनों को संकल्पों को तेज गति से सिद्ध करने का यह स्वर्णिम अवसर देश के पास आया है. इस दशक का भरपूर उपयोग हो. इसलिए इस सत्र में पूरे दशक को ध्यान में रखते हुए चर्चाएं हों. उत्तम मंथन से उत्तम अमृत प्राप्त हो, यह देश की अपेक्षा है. जिस आशा के साथ हम सबको संसद भेजा गया है, हम संसद के पवित्र स्थान का भरपूर उपयोग करते हुए, जन आकांज्ञाओं की पूर्ति के लिए हम पीछे नहीं रहेंगे. सभी सांसद इस सत्र को और अधिक उत्तम बनाएंगे, यह मेरा विश्वास है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here