भारत के साथ डैगन Water War की कर रहा तैयारी, ब्रह्मपुत्र नदी पर मैगा-डेम बनाने बना रहा योजना

0
762

भारत के खिलाफ चीन लगातार अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. पहले सीमा विवाद को लेकर भारत के संयंत्र रचा और अब उसकी कोशिस पानी को लेकर जंग छेड़ने की है. चीन तिब्बत से भारत की ओर बहने वाली नदियों पर कई बड़े बांध बनाने की तैयारी कर रहा है. इन बाधों को वह भारत के खिलाफ एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करेगा. गर्मी के मौसम में उसकी कोशिश पानी रोककर भारत के निचले इलाकों में सूखा पैदा करने की होगी. इसी तरह, बरसात में चीन पानी छोड़कर भारतीय इलाकों में बाढ़ भी ला सकता है.

एशिया टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन इन दिनों यारलुंग जांगबो पर एक मेगा-डैम बनाने की योजना पर काम कर रहा है. इस डैम के बारे में ज्यादा जानकारी तो सामने नहीं आई है, लेकिन बताया जा रहा है कि इससे चीन में बने दुनिया के सबसे बड़े बांध थ्री जॉर्ज से भी तीन गुना ज्‍यादा पनबिजली पैदा की जा सकेगी. जानकारों का मानना है कि चीन के इस विशाल आकार के बांध से भारत के पूर्वोत्‍तर राज्‍यों और बांग्‍लादेश में सूखे जैसी स्थिति पैदा हो सकती है. बता दें कि जांगबो भारत में दाखिल होते ब्रह्मपुत्र नदी बन जाती है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि यारलुंग जांगबो (ब्रह्मपुत्र नदी) नदी पर बांध बनाने को लेकर चीन ने भारत और बांग्लादेश से चर्चा तक नहीं की है. वह खुले रूप में जल बंटवारे को लेकर हुई संधियों की अनदेखी कर रहा है. इस नदी के निचले हिस्से में आने वाले पड़ोसियों के साथ विचार-विमर्श की कमी दक्षिण पूर्व एशिया में विवादों को जन्म दे सकती है. रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने ब्रह्मपुत्र की तरह कई देशों से बहने वाली मेकांग नदी पर भी 11 मेगा डैम बनाए हैं. चीन ने इस बारे में म्यांमार, लाओस, थाईलैंड, कंबोडिया और वियतनाम में को भी कोई पूर्व सूचना नहीं दी थी.

चीन ब्रह्मपुत्र पर यह बांध तिब्‍बत के मेडोग काउंटी में बना सकता है, जो भारत के अरुणाचल प्रदेश की सीमा के बेहद करीब है. गौरतलब है कि बीजिंग पहले ही ब्रह्मपुत्र नदी पर कई छोटे-छोटे बांध बना चुका है. माना जा रहा है कि इस नए बांध को चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्‍यान में रखकर बनाया जाएगा. विशेषज्ञों का कहना है कि यदि चीन इस दिशा में आगे बढ़ता है, तो भारत के साथ उसका तनाव और बढ़ जाएगा. पहले से ही दोनों देश सीमा विवाद को लेकर आमने-सामने हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here