केरल सरकार मदरसों के अध्यापकों पर खर्च कर रही करोड़ों रुपए? जानिए पाकिस्तानी सोशलिस्ट के दावे की हकीकत

0
421

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो

सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी सोशलिस्ट पूर्व मेयर आरिफ अजाकिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि भारत के केरल की आबादी 3 करोड़ 56 लाख है. इनमें 26 फीसदी मुस्लिम यानी करीब 88 लाख मुसलमान हैं. केरल में 941 पंचायतें और 21 हजार 683 मदरसे हैं. मसलन, 1 पचंयत में 23 मदरसे हैं. इतना ही नहीं इसके अलावा यह भी दावा किया गया कि मदरसे के एक अध्यापक की प्रति माह सैलरी 25 हजार रुपए है. हर माह मदरसे के टीचरों पर 511 करोड़ 70 लाख 75 हजार रुपए उनकी पगार के रूप में दिए जाते हैं. इसके अलावा रिटायर टीचरों को हर माह 120 करोड़ रुपए पेंशन के रूप में दे दिए जाते हैं. कुल मिलाकर केरल सरकार 6,317 करोड़ रुपए हर माह सैलरी और पेंशन के नाम पर खर्च कर रही है और यह सालाना 7,580 करोड़ रुपए हो जाता है.

वीडियो में पाकिस्तानी सोशलिस्ट दावा कर रहे है कि यह सारा पैसा टैक्स पेयर का है, जो हिंदू हैं. हिंदुओं के दिए हुए टैक्स के पैसे से मदरसे के अध्यापकों को सैलरी और पेंशन दी जाती है. मदरसे में अध्यापक सिखाते हैं कि तुम काफिरों यानी हिंदुओं या अन्य धर्मों के लोगों से उच्च हो. इनको कनर्ट करना तुम्हारा पहला कर्तव्य है. हिंदुओं के पैसे पर यह ट्रेनिंग दी जाती है, उन्होंने कहा कि भारत को अगर सही रास्ते पर आना है तो मदरसों को बंद करना होगा.

इस वीडियो को आकाश आरएसएस नाम से बने ट्विटर हैंडल एकाउंट से शेयर किया गया है, साथ में कहा गया,
वीडियो में बताए जा रहे आंकड़े गौर से सुनें और ये वीडियो भाजपा या आरएसएस के द्वारा नहीं बनाया गया है बल्कि पाकिस्तान के एक एक्टिविस्ट ने बनाया है. आंखें खोलो वरना सब लुट जाएगा.

<video width="100

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here